22 मई, 2010

जंगल की एक रात

मुझे याद है पिकनिक पर जाने का वह दिन ,
जल प्रपात का सौन्दर्य निहारने का वह दिन ,
दिन बीत गया खेलने और मनोरंजन में ,
जैसे ही शाम होने लगी ,
घर की चिंता होने लगी ,
फिर भी सुरमई शाम को जंगल में घूमना ,
तरह-तरह के पक्षी देखना ,
अपने आप में एक करिश्मा था ,
उन्हें देख मन खुशियों से भर जाता था ,
सूखे पत्तों से भरी पगडंडियों पर चलना ,
चरमर-चरमर आवाज़ें सुनना ,
अजीब अहसास कराता था ,
मन धीरे-धीरे गुनगुनाता था ,
शायद हम रास्ता भटक गये थे ,
अपनी मंज़िल से दूर निकल गये थे ,
जब अँधियारा छाने लगा ,
साँय-साँय करता जंगल ,
और जंगली जानवरों का भय ,
हमें विचलित करने लगा ,
भय मन में भरने लगा ,
सामने एक वृक्ष घना था ,
वहाँ रुकें उचित यही था ,
आसमान में झिलमिल करते तारे ,
हमें उस ओर खींच ले गये ,
रात में ठहरने की वजह बन गये ,
नींद कोसों दूर हो गयी ,
बातों ही बातों में ,
जाने कब आधी रात हो गयी ,
एकाएक बादलों ने नभ में ,
उमड़ घुमड़ कर जल बरसाया ,
तेज बारिश ने सब को नहलाया ,
कम्पित तन , घुटनों में सर
जल से सराबोर हम बैठे थे ,
तरह-तरह की आवाजों का
मन में भय समेटे थे ,
फिर से जब बरसात थम गयी ,
तारों की लुकाछिपी शुरू हो गयी ,
शायद वे हम पर हँस रहे थे ,
हमारी बेचारगी पर तरस खा रहे थे ,
इतने में एक तारा टूटा ,
औरआकाश में विलीन होगया ,
हम भी कहीं गुम हो जायेंगे ,
टूटे तारे की तरह खो जायेंगे ,
फिर जाने कब आँख लग गयी ,
पौ फटते ही नींद खुल गयी ,
जब घर की राह नज़र आई ,
घर की ओर दौड़ लगाई ,
जंगल में रात कैसे कटी ,
यह बताना अच्छा लगता है ,
पूरी कहनी सुनाना ,
मन को भाता है ,
भय को पीछे छोड़,
वहाँ फिर से जाने का दिल करता है ,
जंगल में कटी रात कैसे भूल पायेंगे ,
जब भी कभी बात चलेगी ,
हम वही संस्मरण दोहरायेंगे |


आशा

5 टिप्‍पणियां:

Your reply here: