12 अक्तूबर, 2011

चाहत


आँखें उसकी नील कमल सी
और कशिश उनकी ,
जब खींचेगीं बाँध पाएंगी
होगी परिक्षा उनकी |
उनका उठाना और झुक जाना
गहराई है झील की
आराधना और इन्तजार
चाहत है मन मीत की |
जाना न होगा दूर कहीं
किसी जन्नत के लिए
दूरियां घटती जाएँगी
पास आने के लिए |
कल्पनाओं की उड़ान मेरी
परवान चढती जाएगी
अब रोज ही त्यौहार होगा
आएगी घर में खुशी |
आशा


23 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति, बधाई

    जवाब देंहटाएं
  2. बेशक मिले संयोग से.........अच्छा रहा मिलाप....
    कहना क्या ये सत्य है ..... .अच्छा लिखती आप.....
    अच्छा लिखती आप...........सदा रहती है छाई.....
    बातो में भी मिलती है..........गहरी गहराई.....
    कह मनोज गुठली नहीं........ये तो पूरा आम......
    मेरी तरफ से आपको...........सादर नमन प्रणाम.....

    जवाब देंहटाएं
  3. बढ़िया प्रस्तुति |
    हमारी बधाई स्वीकारें ||

    neemnimbouri.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  4. बढिया प्रस्‍तुति..
    गहरे भाव...

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति|

    जवाब देंहटाएं
  6. कल्पनाओं की उड़ान मेरी
    परवान चढती जाएगी
    अब रोज ही त्यौहार होगा
    आएगी घर में खुशी |

    बहुत खूबसूरत कविता आशा जी. धन्यबाद.

    जवाब देंहटाएं
  7. झील सी इन नीली आँखों की खुमारी में तो हम भी डूबना चाहते हैं ! बहुत प्यारी रचना ! बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति|

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह! सुन्दर कविता...
    सादर बधाई...

    जवाब देंहटाएं
  10. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-666,चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    जवाब देंहटाएं
  11. कल्पनाओं की उड़ान मेरी
    परवान चढती जाएगी
    अब रोज ही त्यौहार होगा
    आएगी घर में खुशी |
    bahut khub likha hai mam,,
    jai hind jai bharat

    जवाब देंहटाएं
  12. जो मैंने कहना था, मनोज भाई पहले ही चिपका गए हैं। खैर आप उस भाई की बात को इस भाई के भी मन की बात समझ कर प्रणाम स्वीकार करें। आप कि पद्य के प्रति अभूरुचि और रचनाधर्म के प्रति आप का समर्पण बहुत प्रभावित कर रहा है। नमन।


    गुजर गया एक साल

    जवाब देंहटाएं
  13. अंतरतम में प्रियतम का एहसास दिलाती पावन कृति

    जवाब देंहटाएं
  14. आपकी रचना पर टिप्पणी करना बहुत मुश्किल, सुंदर अतिसुन्दर......

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (30-06-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    जवाब देंहटाएं
  16. बहुत खूब...
    बहुत सुन्दर रचना...
    :-)

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: