31 अक्तूबर, 2012

वे दिन



वे दिन भी क्या दिन थे, उनकी धुंधली याद |
अधूरा सा जीवन था ,रहा न कोइ साथ  ||

 रहता भी तो क्या करता ,था जीवन बेकार
अहसास न था प्यार का , और धीमी  रफ्तार || 

 तुम्हें मैंने जान लिया, पहचाना पा पास
दुःख सुख तो आते रहते ,था  तुझ पर  विश्वास ||


 चलता सदा काल चक्र , और समय बलवान |
  पिंजर से होते ही मुक्त  ,दुःख का होगा त्राण ||
आशा 

9 टिप्‍पणियां:

  1. काल चक्र चलता सदा , और समय बलवान |
    होते ही मुक्त पिंजरे से ,दुःख का होगा त्राण ||

    बहुत ही बढ़िया प्रस्तुति,,,,,
    RECENT POST LINK...: खता,,,

    जवाब देंहटाएं
  2. चलता सदा काल चक्र , और समय बलवान | पिंजर से होते ही मुक्त ,दुःख का होगा त्राण || समय के साथ सभी दुःख समाप्त हो जायेंगे...भावपूर्ण रचना...

    जवाब देंहटाएं
  3. समय का पहिया चलता रहता है ..
    सुंदर अभिव्‍यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया!
    करवाचौथ की अग्रिम शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर ! सुन्दर कथ्य और सुन्दर ही अभिव्यक्ति !

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: