25 दिसंबर, 2012

नया अंदाज

क्या देख कर
 मुस्कुरा रही हो
जाने  क्या सोच रही हो
सभी को लुभा रही हो |
तुम्हारे चेहरे  का नूर
यह आँखों की चमक
कहती है बहुत कुछ
घुल जाती  मिठास मन में
तुम्हें देख कर |
सरिता भावों से भरी
करती भाव बिभोर
कोई त्रुटि न रह जाए
मन  में रहता भय 
जमाने की बुरी नजर
 से बचाए तुम्हे कैसे |
रहो सदा ऐसी ही
है कामना यही
प्यार भरे अंदाज का
 अदभुद उपहार यही |
आशा 




12 टिप्‍पणियां:

  1. घुल जाती मिठास मन में
    तुम्हें देख कर...
    --------------------
    बेटियों को आशीष....

    जवाब देंहटाएं
  2. बेटियां ईश्वर का दिया सबसे खूबसूरत प्यारा सा उपहार हैं... सुन्दर रचना... आभार आपका

    जवाब देंहटाएं
  3. घुल जाती मिठास मन में
    तुम्हें देख कर -सही कहा आपने
    नई पोस्ट : जागो कुम्भोकर्नो

    जवाब देंहटाएं
  4. सही बात ..कुदरत का एक अनूठा उपहार

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    जवाब देंहटाएं
  6. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    जवाब देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  8. आहना की इतनी प्यारी तस्वीरें देख कर मन मुग्ध हो गया ! रचना भी उतनी ही प्यारी है !

    जवाब देंहटाएं
  9. दिल के भावों से स्नेह प्रकट होता है. आपके आशीष से नूर बरसता है.
    स्मिता.

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: