28 दिसंबर, 2012

पूर्णविराम


सिलसिला कार्यों का
अनवरत चलता रहा
जन्म से आज तक
 थमने का नाम नहीं लिया
  बचपन तो बचपन ठहरा
ना कोई चिंता ना बेचैनी
बस आनंद ही आनंद
जिंदगी रही सरल सहज
अल्पविराम पहला आया
जिंदगी की इवारत में
जब पढने लिखने की उम्र हुई
गृह कार्य की चिंता हुई
कई बार क्रोध आया
जीवन नीरस सा लगा
बगावत का मन भी हुआ
जब तक इति उसकी न हुई
व्यस्तता कुछ अधिक बढ़ी
जब दायित्वों की झड़ी लगी
कर्तव्यों का भान हुआ
अर्धविराम तभी लगी
जिंदगी की रवानी में
दायित्वों  के बोझ तले
जिंदगी दबती गयी
समस्त कार्य पूर्ण किये
अभिलाषा भी शेष नहीं
जीने का मकसद पूर्ण हुआ
पूर्णता का अहसास हुआ
संतुष्ट भाव से खुद को सवारा
अब है इंतज़ार
जीवन की इवारत में
लगते  पूर्णविराम का |
आशा


9 टिप्‍पणियां:

  1. पूर्णविराम के बाद शून्य...अभी शून्य में विलीन होने का वक्त नहीं आया
    सुंदर रचना !!
    नव वर्ष की शुभकामनाएँ !!

    जवाब देंहटाएं
  2. अभी पूर्णविराम नहीं मिलेगा आपको..
    अच्छी रचना. नववर्ष की हार्दिक बधाई...

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही अच्छी प्रस्तुति। मेरे नए पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं। धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  4. जीवन की इवारत इतनी छोटी नहीं की पूर्णविराम लग सके,,,
    recent post : नववर्ष की बधाई

    जवाब देंहटाएं
  5. जीवन इतना छोटा नहीं की हार मान लें ,अभी तो कई आसमां तय करने हैं मौसीजी ,आभार सहित ।

    जवाब देंहटाएं
  6. अजी कैसा अल्पविराम और कैसा पूर्णविराम ! अभी तो जीवन को सही मायने में भरपूर जीने की फुर्सत मिली है उसका जैम के आनंद उठाइये ! कहाँ कॉमा फुलस्टॉप के चक्करों में उलझ गयीं आप ! वैसे रचना अच्छी है !

    जवाब देंहटाएं
  7. अभी कैसा पूर्णविराम ! यही तो वक़्त है जीवन को भरपूर जीने का... सारे दायित्वों की पूर्णता के बाद सिर्फ और अपने लिए जीने का ... आभार

    जवाब देंहटाएं
  8. चलना ही जिंदगी है -चलते जाइये ,जीवन का पूर्ण आनंद लीजिये ,पूर्ण विराम की चिंता किये बिना.
    मेरी नई पोस्ट ; "नया वर्ष मुबारक हो सबको " में आपका इन्तेजार है .

    जवाब देंहटाएं
  9. एक नयी उम्मीद के साथ नववर्ष की शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: