07 अप्रैल, 2013

मन की पीर

अनाज यदि मंहगा हुआ ,तू क्यूं आपा खोय |
मंहगाई की मार से बच ना पाया कोय ||
 
कोई भी ना देखता , तेरे मन की पीर  |
हर वस्तु अब तो लगती ,धनिकों की जागीर ||

रूखा सूखा जो मिले ,करले तू स्वीकार |
उसमें खोज खुशी अपनी ,प्रभु की मर्जी जान ||
 
पकवान की चाह न हो ,ना दे बात को तूल |
चीनी भी मंहगी हुई ,उसको जाओ भूल ||

वाहन भाडा  बढ़ गया , इसका हुआ प्रभाव  |
भाव आसमा छु रहे ,लगता बहुत अभाव  ||

इधर उधर ना घूमना ,मूंछों पर दे ताव  |
खाली यदि जेबें रहीं ,कोइ न देगा भाव  ||

भीड़ भरे बाजार में ,पैसों का है जोर  |
मन चाहा यदि ना मिला , होना ही है बोर ||

आशा


17 टिप्‍पणियां:


  1. कल दिनांक 08/04/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह !!!बहुत बेहतरीन सच कहते सुंदर दोहे!!!

    RECENT POST: जुल्म

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही बढ़ियाँ रचना...
    बेहतरीन....

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत ही बेहतरीन सच को उजागर करते दोहे,आभार.

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही सार्थक, सटीक और सामयिक रचना

    जवाब देंहटाएं
  6. वाहन भाडा बढ़ गया , इसका हुआ प्रभाव |
    भाव आसमा छु रहे ,लगता बहुत अभाव ..

    भाव भ्बी बढे ओर आभाव भी हुवा ... दूना असर हुवा ...

    जवाब देंहटाएं
  7. यथार्थ का सटीक चित्रण करते चुटीले दोहे ! मज़ा आ गया !

    जवाब देंहटाएं
  8. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (08 -04-2013) के चर्चा मंच 1208 पर लिंक की गई है कृपया पधारें.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है | सूचनार्थ

    जवाब देंहटाएं
  9. आपकी अभिविक्यति शानदार है

    जवाब देंहटाएं
  10. सुन्दर प्रस्तुति आदरेया-

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत ही सार्थक, सटीक दोहे,आभार

    जवाब देंहटाएं
  12. kadva sach bayan karte huye sundar dohe ..

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर....बेहतरीन प्रस्तुति
    पधारें "आँसुओं के मोती"

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: