04 सितंबर, 2013

ओ तितली हो क्यूं उदास


ओ तितली  हो क्यूं उदास
ले रही हो  गहरी उंसास
पंख रंग बिरंगे अपने
कहाँ छोड़ कर आई हो |
क्यूं पहले सी खुशी नहीं
ना चटक चुनरी पहनी
ये काले काले पंख लगाए
क्या जताने आई हो |
क्या तुम भी सदमें में हो
है मन संतप्त तुम्हारा भी
देश की बदहाली पर
शोक मनाने आई हो |
जल प्लावन से हो कर त्रस्त
जन जीवन है अस्त व्यस्त
हुए काल कलवित अनेक
डूबे घर संसार |
कितनों के घर उजड़ गए
वे बेघरबार हो गए
 क्या शोकाकुल परिवारों को
धैर्य बंधाने आई हो |
उनके दुःख में हो कर दुखी
दर्द बांटने आई हो
 हो तुम आखिर क्यूं उदास
अपने रंग कहाँ छोड़ आई हो |

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    गुरूजनों को नमन करते हुए..शिक्षक दिवस की शुभकामनाएँ।
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बुधवार (22-06-2013) के शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ( चर्चा- 1359 ) में मयंक का कोना पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  2. बढ़िया प्रस्तुति-
    आदि गुरु को सादर प्रणाम-

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया प्रस्तुति-शिक्षक दिवस की शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको भी शिक्षक दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं

      हटाएं
  4. बहुत खूब...ति‍तली से वार्तालाप

    जवाब देंहटाएं
  5. सच में ऐसा लगता है कि देश और परिवेश की दुर्दशा पर प्रकृति के सारे प्राणी शोक संतप्त हैं ! सुंदर कोमल तितलियाँ भी ! बहुत खूबसूरत रचना !

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: