25 जनवरी, 2014

शत शत प्रणाम


 गणतंत्र दिवस के पावन अवसर पर आप सब को हार्दिक शुभ कामनाएं |प्रस्तुत है एक रचना "शत शत प्रणाम" :- 

 तुम रक्षक सरहद के
माँ की आँखों के तारे
हो पिता के अभिमान
कटिबद्ध आनबान पर
देश की हो शान
रणक्षेत्र में डटे  रहते
शत्रु के दांत खट्टे करते
दुगुनी शक्ति से  प्रतिउत्तर देते
हंसते हुए वार झेलते
विपरीत स्थिति यदि हो
पीठ दिखा कर नहीं भागते
सर्दी बर्फ नहीं सताती
गर्मीं सहते सारे साथी
वर्षा में वहीं टिके रहते
कर्तव्य से मुख नहीं मोड़ते
तुम्हारी  पूर्ण निष्ठा समर्पण
सफलता की कुंजी है
तुम्हे विशिष्ट बनाती है
जब भी सम्मान तुम्हें मिलता
सर गर्व से उन्नत होता
मन ऊर्जा से भर जाता
तुम जैसा होना चाहता
ओ सरहद के रक्षक
तुम्हें शत शत प्रणाम |
आशा 
  • Smita Shrivastava Gallantry divas ki shubhkamnaye
  • ऋता शेखर 'मधु' गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ !!!!
  • Jai Prakash Tripathi ...' कौन आजाद हुआ ......बलिदान से पहले 22 मार्च 1931 को लिखा गया देशवासियों को अंतिम पत्र के मुख्य अंश : " स्वाभाविक है ..जीने की इक्षा मुझमे भी होनी चाहिए , मै इसे छुपाना नहीं चाहता ..लेकिन मै एक शर्त पर जिदा रह सकता हूँ ..मै कैद और पाबंद बन कर जीना नहीं चाहता ..दिलेराना ढंग से हसते - हसते मेरे फांसी पर चढ़ने की सूरत में ' हिन्दुस्तानी माताएं अपने बच्चो को भगत सिंह बनाने की आरजू किया करेंगी और देश के लिए कुर्बानी देने वालों की तादात इतनी बढ़ जाएगी की क्रांति और आजादी को रोकना हुकूमतों और नापाक शैतानी ताकतों के लिए असंभव हो जायेगा ...हां एक विचार आज भी मेरे मन में आता है ..की देश और मानवता के लिए जो कुछ करने की हसरतें मेरे दिल में थी उसका हजारवा भाग भी पूरा न कर सका अगर मै आजाद और जिदा रहता तो इन्हें पूरा करने का अवसर मिलता . मुझसे अधिक सौभाग्यशाली कौन है .अब तो बड़ी बेताबी से अंतिम परीक्षा का इन्तजार है .कामना है यह और नजदीक आये .आप सभी देश भाइयों का साथी , भगत सिंह
  • Rajendra Kumar 65वां गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।
  • Sunil Anand मंगल पांडे,खुदी राम बोस और चन्द्रशेखर आजाद ने राष्ट्र के लिए अपनी बलि दी।इस बलिदान से जाग्रत प्रेरणा को जीवंत बनाये रखना है।
  • Sundar Sharma Happy Republic Day !
  • Kailash Sharma गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!
  • Anita Lalit बहुत सुन्दर रचना ! गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ …

38 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  2. Bahut achchhi rachana hai.
    Tum shahid hokar hamari raksha karte ho.
    Ham yahi prarthana karte hai aapka sar salamat rahe.
    Hamara Tiranga sada Laherata rahe.
    Jay Bharat. Jay Jawan.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. कविता अच्छी लगी जान कर प्रसन्नता हुई |गणतंत्र दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं |

      हटाएं
  3. आपके लिखे पर ... बस पढ़ना और महसूस करना है ...बहुत सुन्दर..

    जवाब देंहटाएं
  4. ***आपने लिखा***मैंने पढ़ा***इसे सभी पढ़ें***इस लिये आप की ये रचना दिनांक 27/01/2014 को नयी पुरानी हलचल पर कुछ पंखतियों के साथ लिंक की जा रही है...आप भी आना औरों को भी बतलाना हलचल में सभी का स्वागत है।


    एक मंच[mailing list] के बारे में---


    एक मंच हिंदी भाषी तथा हिंदी से प्यार करने वाले सभी लोगों की ज़रूरतों पूरा करने के लिये हिंदी भाषा , साहित्य, चर्चा तथा काव्य आदी को समर्पित एक संयुक्त मंच है
    इस मंच का आरंभ निश्चित रूप से व्यवस्थित और ईमानदारी पूर्वक किया गया है
    उद्देश्य:
    सभी हिंदी प्रेमियों को एकमंच पर लाना।
    वेब जगत में हिंदी भाषा, हिंदी साहित्य को सशक्त करना
    भारत व विश्व में हिंदी से सम्बन्धी गतिविधियों पर नज़र रखना और पाठकों को उनसे अवगत करते रहना.
    हिंदी व देवनागरी के क्षेत्र में होने वाली खोज, अनुसन्धान इत्यादि के बारे मेंहिंदी प्रेमियों को अवगत करना.
    हिंदी साहितिक सामग्री का आदान प्रदान करना।
    अतः हम कह सकते हैं कि एकमंच बनाने का मुख्य उदेश्य हिंदी के साहित्यकारों व हिंदी से प्रेम करने वालों को एक ऐसा मंच प्रदान करना है जहां उनकी लगभग सभी आवश्यक्ताएं पूरी हो सकें।
    एकमंच हम सब हिंदी प्रेमियों का साझा मंच है। आप को केवल इस समुह कीअपनी किसी भी ईमेल द्वारा सदस्यता लेनी है। उसके बाद सभी सदस्यों के संदेश या रचनाएं आप के ईमेल इनबौक्स में प्राप्त करेंगे। आप इस मंच पर अपनी भाषा में विचारों का आदान-प्रदान कर सकेंगे।
    कोई भी सदस्य इस समूह को सबस्कराइब कर सकता है। सबस्कराइब के लिये
    http://groups.google.com/group/ekmanch
    यहां पर जाएं। या
    ekmanch+subscribe@googlegroups.com
    पर मेल भेजें।


    जवाब देंहटाएं
  5. वाह वाह ! अपने देश के वीर सैनिकों पर जितना अभिमान करें कम ही होगा ! उन्हें समर्पित एक बहुत ही सुंदर रचना !

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर और प्रेरक रचना...गणतंत्र की हार्दिक शुभकामनायें..

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको भी गणतंत्र दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
      आशा

      हटाएं
  7. सशक्त और प्रभावशाली रचना.....

    जवाब देंहटाएं
  8. आ० बढ़िया रचना व गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ , धन्यवाद
    नया प्रकाशन -: जाने क्या बातहै हममें कि हमारी हस्ती मिटती नहीं !

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    गणतन्त्रदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    जय भारत।
    भारत माता की जय हो।

    जवाब देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  11. आपकी इस प्रस्तुति को आज की राष्ट्रीय मतदाता दिवस और ब्लॉग बुलेटिन (मेरी 50वीं बुलेटिन) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (26-01-2014) को "गणतन्त्र दिवस विशेष" (चर्चा मंच-1504) पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    ६५वें गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ६५वें गणतंत्र दिवस कि हार्दिक शुभकामनायें !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. राजेन्द्र जी आपको भी गणतंत्र दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं |

      हटाएं
  14. हमारे वीर जवानों पर नाज़ है हमें। शत सत प्रणाम है उन्हें सारे भारत वासियों का।

    जवाब देंहटाएं
  15. प्रभावशाली रचना...गणतंत्र दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं...

    जवाब देंहटाएं
  16. सुन्दर प्रस्तुति …………भ्रष्टाचार मिटाना चाहते हो तो पहले खुद को बदलो
    अपने धर्म ईमान की इक कसम लो
    रिश्वत ना देने ना लेने की इक पहल करो
    सारे जहान में छवि फिर बदल जायेगी
    हिन्दुस्तान की तकदीर निखर जायेगी
    किस्मत तुम्हारी भी संवर जायेगी
    हर थाली में रोटी नज़र आएगी
    हर मकान पर इक छत नज़र आएगी
    बस इक पहल तुम स्वयं से करके तो देखो
    जब हर चेहरे पर खुशियों का कँवल खिल जाएगा
    हर आँगन सुरक्षित जब नज़र आएगा
    बेटियों बहनों का सम्मान जब सुरक्षित हो जायेगा
    फिर गणतंत्र दिवस वास्तव में मन जाएगा

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत सटीक लिखा है आपने मेरी बधाई स्वीकारें |

      हटाएं
  17. हमारे सैनिक देश के शान ,बान, आन की रक्षक है इनकी जितना तारीफ की जाय कम है!
    ६५ वीं गणतंत्र दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं !
    नई पोस्ट मेरी प्रियतमा आ !
    नई पोस्ट मौसम (शीत काल )

    जवाब देंहटाएं
  18. आपको भी गणतंत्र दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    जवाब देंहटाएं
  19. प्रेरणा देते शब्द ... लाजवाब भावपूर्ण अभिव्यक्ति ...
    गणतंत्र दिवस की बधाई ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. गणतंत्र दिवस पर शुभ कामनाएं नासवा जी |

      हटाएं

Your reply here: