23 जनवरी, 2014

बचपन


पचपन में
बचपन की बातें
नानी ने कहीं |

ओ बचपन
कोशिश तो करना
यादों में आना |

 ए बचपन
सपनों में आ कर
नींद चुराना |



माँ की ममता
बचपन न भूलता
उसमें खोता |
 



 हंसता गाता 
बचपन मुखर
माँ की बाहों में | 

सोता जागता
 हंसता खसकता 
बचपनहै 


 लुका छिपी में
बचपन प्रसन्न
बाबा के संग |

 मैंने बनाई
सरकंडे की गाड़ी
बचपन में
 |
गाती रिझाती
चलती ठुमकती
बचपन में |


आशा

27 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (23.01.2014) को "बचपन" (चर्चा मंच-1495) पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है,धन्यबाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
    2. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
    3. सूचना हेतु आभार राजेन्द्र जी |

      हटाएं
  2. बहुत सुन्दर .शुभकामनाएँ.

    जवाब देंहटाएं
  3. उत्तर
    1. ब्लॉग पर आने और टिप्पणी के लिए धन्यवाद |

      हटाएं
  4. शब्दों के साथ चित्र भी बचपन का साथ साथ दे रहा हैं -बहुत सुन्दर !
    नई पोस्ट मेरी प्रियतमा आ !
    नई पोस्ट मौसम (शीत काल )

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर हाइगा ! आहना की तस्वीरें मन मोह लेती हैं ! बचपन की स्मृतियों को जगाती बहुत मनमोहक प्रस्तुति !

    जवाब देंहटाएं
  6. दिल को छूते बहुत सुन्दर हाइकु...

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: