29 नवंबर, 2018

आवाज









आवाज मीठी मधुर
कानों में रस घोलती
अपनी ओर आकृष्ट करती
आवाज प्रातः काल परिंदों की
  स्वतः मन को रिझाती
कोयल की मधुर ध्वनि
कर्णप्रिय लगती
 अपनी ओर आकृष्ट करती
कागा बैठ मुडेर पर देता सन्देश
अतिथि आगमन का
गृह कार्य में स्फूर्ति आ जाती
 रात में जब विचरण
 की इच्छा होती
जंगल बहुत प्रिय लगता
जलप्रपात का  कलकल निनाद 
 बहते जल की आवाज
अपनी ओर खीचती
 उसके किनारे बैठना 
जल के बहाव के संग 
विचारों को पंख देना
बहुत रंगीन मंजर  होता
हवा का बहाव उसमें
 चार चाँद लगाता
जब चांदनी रात होती
यूँ तो अपार शान्ति रहती
पर रात्रिचर यदाकदा 
स्वर छेड़ते रहते रह रह कर
फिर भी अपूर्व आलम रहता
वहां के आनंद  का
यहाँ शान्ति मन में बसती
जीवन की उलझनों से
 दूर बहुत दूर ले जाती
आवाज की मधुरता  ही
  उसकी ही है  जान
मानो या न मानो
प्रकृति के सान्निध्य में
जो सुकून मिलता है
 कहीं नहीं मिल पात़ा |
आशा