09 मई, 2019

उधारी




लेनदेन हो बराबर
कोई गड़बड़ हिसाब में नहो
ना किसी का लेना
नाही किसी को देना
हिसाब किताब बराबर रखना
मन को सुकून देता |
है यह मन्त्र सुख से जीने का
कोई दरवाजे पर आए और
अपना पैसा बापिस चाहे
शर्म से सर नत हो जाता |
जितनी बड़ी चादर हो
उतने ही पैर पसारे जाएं
यही सही तरीका
है जीने का |
उधारी सर पर यदि हो
नींद  रातों की उड़ जाती
राह पर यदि सेठ का मकान हो
वह राह ही भुला दी जाती |
उधार में जीने वाले
ना तो खुद सोते हैं
ना चैन से रहने देते
परिवार के सदस्यों को |
आशा


8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (10-05-2019) को "कुछ सीख लेना चाहिए" (चर्चा अंक-3331) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुप्रभात
      मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार सर |

      हटाएं
  2. आवश्यक सूचना :

    सभी गणमान्य पाठकों एवं रचनाकारों को सूचित करते हुए हमें अपार हर्ष का अनुभव हो रहा है कि अक्षय गौरव ई -पत्रिका जनवरी -मार्च अंक का प्रकाशन हो चुका है। कृपया पत्रिका को डाउनलोड करने हेतु नीचे दिए गए लिंक पर जायें और अधिक से अधिक पाठकों तक पहुँचाने हेतु लिंक शेयर करें ! सादर https://www.akshayagaurav.in/2019/05/january-march-2019.html

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुप्रभात
      मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार सर |

      हटाएं
  3. सही कहा दी आप ने
    बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  4. सुप्रभात
    टिप्पणी के लिए धन्यवाद अनीता जी |

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: