14 अगस्त, 2019

तस्वीर भारत की










                                                      तस्वीर भारत की -

      अखंड सम्रद्ध भारत की छवि
          सोने  की  चिड़िया  की तस्वीर   
 जाने कब से मन में पनप रही थी
बचपन ने आँखें खोली थीं
 परतंत्र देश में
तभी से यह था  अरमान
 कोई बलिदान व्यर्थ ना जाएं 
भारत स्वतंत्र हो पाए
स्वतंत्र भारत में खुल कर
 सांस लेने की कल्पना थी बलवती
बहुत उत्सुकता से
आन्दोलनों की बात सुनते थे
कभी प्रश्न भी करते थे
 इससे क्या लाभ होगा ?
उत्तर से संतुष्ट हो कर
 कल्पना में खो जाते थे
धीरे धीरे कल्पना के पंख लगे
बनने लगी तसवीर अखंड भारत की
स्वतंत्र भारत हुआ
कई कठिनाइयों का किया सामना  
पर दृढ इच्छा शक्ति से
पार किया सभी को
इतने वर्षों के बाद
 धारा ३७० पर कार्य कर
बहुत बड़ी उपलब्धी पाई
अखंड भारत की तस्वीर उभर कर आई |

12 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 14 अगस्त 2019 को साझा की गई है........."सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह ! बहुत सुन्दर तस्वीर खींची स्वतंत्र भारत की ! सार्थक सृजन !

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 15.8.2019 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3428 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में सोमवार 19 अगस्त 2019 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  5. सूचना हेतु आभार यशोदा जी |

    जवाब देंहटाएं
  6. उत्तर
    1. सुप्रभात
      टिप्पणी के लिए धन्यवाद अनुराधा जी |

      हटाएं
  7. वाह।बहुत सुंदर प्रस्तुति। सराहनीय रचना।

    जवाब देंहटाएं
  8. सुप्रभात
    टिप्पणी के लिए धन्यवाद सुजाता जी |

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: