29 अगस्त, 2019

शतरंज की बिसात







शतरंज की बिसात पर 
तरह तरह के मोहरे
अलग अलग रंग रूप
कोई राजा कोई बजीर
कोई पैदल चलते
चाल सब की होती भिन्न
जब राजा
चक्र व्यूह में फंसता
शह और मात का
सिलसिला चलता
दोनो प्रतिद्वंदी
बहुत सोच समझ कर
चलते अपने मोहरे
जब सभी चालें
व्यर्थ हो जातीं
और आगे की
राह ना सूझती
खिलाड़ी अपनी हार मान 
नई बाजी फिर से
करते प्रारंभ
यह खेल बहुत
पेचीदा होता
शतरंज की बिसात पर
खेलना सरल नहीं होता
राज नीति के दावपेच 
भी तो होते  ऐसे
राजनीति के मंच पर
चलना सरल नहीं होता
हर मोहरा अपना
 महत्व जताता
सही समय पर
 अपनी चाल चलता
चक्रव्यूह से उबरने में
कितने मोहरे पिटते
कोई नहीं जानता |


आशा

2 टिप्‍पणियां:

  1. शतरंज और राजनीति के चक्रव्यूह से बाहर निकलना आसान नहीं ! इससे दूरी बनाए रखने में ही भलाई है !

    जवाब देंहटाएं
  2. धन्यवाद टिप्पणी के लिए |

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: