24 मार्च, 2020

जब भी कोरा कागज़ देखा

 
जब भी कोरा कागज़ देखा

10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (25-03-2020) को    "नव संवत्सर-2077 की बधाई हो"   (चर्चा अंक -3651)     पर भी होगी। 
     -- 
    मित्रों!
    आजकल ब्लॉगों का संक्रमणकाल चल रहा है। आप अन्य सामाजिक साइटों के अतिरिक्त दिल खोलकर दूसरों के ब्लॉगों पर भी अपनी टिप्पणी दीजिए। जिससे कि ब्लॉगों को जीवित रखा जा सके।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

    जवाब देंहटाएं
  2. नव सम्वतसर की हार्दिक शुभ कामनाएं सर |
    |

    जवाब देंहटाएं
  3. क्या बात है ! बड़ी रोमांटिक रचना लिख डाली ! बहुत सुन्दर !

    जवाब देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. टिप्पणी हेतु आभार सहित धन्यवाद ओंकात जी |

      हटाएं
  5. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक
    ३० मार्च २०२० के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: