27 अप्रैल, 2020

आइना




है वह आइना तेरा
हर अक्स का हिसाब रखता है
तू चाहे याद रखे न रखे
उसमें जीवंत बना रहता है
बिना उसकी अनुमति लिए
जब बाहर झाँकता है
चाहे कोई भी मुखौटा लगा ले
बेजान नजर आता है
यही तो है कमाल उसका
हर भाव की एक एक लकीर
उसमें उभर कर आती है
तू चाहे या न चाहे
मन की हर बात वहाँ पर
  तस्वीर सी छप जाती है
चाहे तू लाख छिपाए
तेरे मन के भावों की
परत परत खुल जाती है
दोनों हो अनुपूरक
एक दूसरे के बिना अधूरे
है वह आइना तेरे मन का
यह तू क्यूँ भूला |

आशा

13 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज सोमवार 27 एप्रिल 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. आईना दिखाती है आपकी यह रचना । सुंदर प्रस्तुति आदरणीया ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुप्रभात
      पुरुषोत्तम जी टिप्पणी के लिए धन्यवाद |

      हटाएं
  3. मन का आइना ... जिस से कोई मुखौटा नहीं बच सकता ... उम्दा

    जवाब देंहटाएं
  4. आईना , जितना कमाल आईना खुद है उतना ही कमाल आपने उसका अक्स उभार कर रख दिया अपनी इन पंक्तियों में। मैं आपके ब्लॉग का 300वां अनुसरक बन कर जा रहा हूँ अब नियमत आता रहूंगा

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मुझे बहुत प्रसन्नता हो रही है की आप मेरे ब्लॉग पर आए |उत्साह वर्धन के लिए धन्यवाद |टिप्पणी बहुत अच्छी लगी |

      हटाएं
  5. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (29-04-2020) को   "रोटियों से बस्तियाँ आबाद हैं"  (चर्चा अंक-3686)     पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    कोरोना को घर में लॉकडाउन होकर ही हराया जा सकता है इसलिए आप सब लोग अपने और अपनों के लिए घर में ही रहें। आशा की जाती है कि अगले सप्ताह से कोरोना मुक्त जिलों में लॉकडाउन खत्म हो सकता है।  
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    --
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

    जवाब देंहटाएं
  6. मौन रह कर सब सच कहता है आइना ...
    यही तो खासियत है उसकी ...

    जवाब देंहटाएं
  7. हर दिलकश चेहरा मुझे देखता जरूर है,
    दिवार पर लटका आइना जो हूँ मैं !

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: