15 अक्तूबर, 2020

शरारत बच्चे की

 कहाँ कहाँ खोजूं तुम्हें 

यह कैसी शरारत है 

क्या कोई काम नहीं मुझको 

केवल तुम्हें ही खोजना है |

कितनी बार समझाया है 

मुझे यूँ न सताया करो 

मेरा समय बरबाद न करो 

पर तुम सुनते ही नहीं हो |

यह कौनसा तरीका है खेलने का 

यदि भूले से पैर फिसला 

चोट लगी तो क्या होगा 

आगे पीछे की सोच को उड़ान दो |

सम्हल जाओ पढाई पर ध्यान दो 

समय हाथ से फिसल गया यदि

बापिस लौट के न आएगा 

तुम यहीं रह जाओगे

 आज की दुनिया से बहुत पीछे |

आशा




10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज गुरुवार 15 अक्टूबर 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 16-10-2020) को "न मैं चुप हूँ न गाता हूँ" (चर्चा अंक-3856) पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित है.

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  3. सार्थक सृजन ! बहुत सुन्दर !

    जवाब देंहटाएं
  4. धन्यवाद साधना टिप्पणी के लिए |

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: