14 जनवरी, 2021

=बालिका से बनी गृहणी

 बनती सवरती बिंदास रहती 

गृह कार्य में रूचि न रखती 

जब छूटा  बाबुल  का अंगना 

तब मुंह बाए खड़ी थीं समस्याएँ अनेक |

जिधर देखो यही कहा जाता 

कुछ भी तो आता नहीं

 कैसे घर चला पाएगी 

किस किसके मुंह पर ताला लगाती | 

पर वह हारी नहीं 

धीरे से  कब कुशल गृहणी में बदली 

जान नहीं पाई  |

जानना चाहते हो  कैसे ?

यह था लगन का चमत्कार 

जिस कार्य को करने को सोचा 

जी जान लगा दी उसने 

कभी सफल् हुई कभी हारी 

\पर हिम्मत नहीं हारती  |

यही एक गुण था उसमें  ऐसा 

जहां जाती  सफलता उसके कदम चूमती 

जिससे सभी क्षेत्रों में हुई सफल 

कुशल गृहणी कहलाई |

आशा 





10 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति।
    मकर संक्रान्ति का हार्दिक शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  2. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 15-01-2021) को "सूर्य रश्मियाँ आ गयीं, खिली गुनगुनी धूप"(चर्चा अंक- 3947) पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  3. कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ! सुन्दर रचना ! वैसे यह किसकी प्रशंसा में कशीदे काढ़ रही हैं आप ?

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति
    बधाई

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: