16 जनवरी, 2021

नन्हीं परी


                                                         हुस्न तेरा क्या कहिये

किसी हूर से कम नहीं तू

या है एक नन्हीं परी

श्वेत वस्त्रों से सजी है |

पंख भी हैं धवल तेरे

प्यार से जब भी देखती

सारी कायनात रौशन होती

जन्नत नजर आने लगती |

 जब रौद्र रूप धारण करती

सांस हलक में अटक जाती

दृष्टि देख सहम जाती

मेरी  जान निकल जाती |

|आशा

10 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 17 जनवरी 2021 को साझा की गयी है.... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (17-01-2021) को   "सीधी करता मार जो, वो होता है वीर"  (चर्चा अंक-3949)    पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    --
    हार्दिक मंगल कामनाओं के साथ-    
    --
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    जवाब देंहटाएं
  4. सुप्रभात
    मेरी रचना की सूचना के लिए आभार शास्त्री जी |

    जवाब देंहटाएं
  5. परी सी सुन्दर कोमल चंचल इतनी प्यारी गुडिया जिसके पास हो उसे और किसी चीज़ की क्या ज़रुरत होगी ! सुन्दर रचना !

    जवाब देंहटाएं
  6. धन्यवाद टिप्पणी के लिए साधना |

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: