14 मई, 2021

जीवन की डगर


 

  कठिन ऊबड़ खाबड़  है जीवन की डगर

 काँटों से  भरी है हुआ चलना दूभर

पैरों में चुभे कंटक  इतने गहरे कि

निकालना सरल नहीं कष्ट इतने कि सहे नहीं जाते |

होती  रूह कम्पित  कंटक निकालने में

 आँखें भर भर आतीं धूमिल होतीं कष्ट सहने में

 दुखित होता पर फिर लगता यही लिखा है प्रारब्ध में

  जीवन है एक छलावा इससे दूर  नहीं हो  सकते

जितनी जल्दी हो अपने कर्तव्य पूरे करना चाहते |

पर उनकी पूरी  सूची समाप्त नहीं होती  

पहली पूरी होते न होते दूसरी दिखाई दे जाती है

फिर भी  मुंह मोड़ना नहीं चाहता अंतस  कर्तव्यों  से  

  सोचती हूँ क्या अपने अधिकारों को पा लिया मैंने |

सोचते हुए अधर में लटकता  सोच अधूरा ही रहता 

न कर्तव्यों का अंत होता न अधिकारों की मांग का  

 एक कंटक निकल कर कुछ सुकून तो देता

पर इतने घाव सिमटे हैं दिल में कि

मुक्ति  ही नहीं मिलती जाने कब ठीक होंगे

सामान्य सा जीवन हो पाएगा  |

अब छोड़ दिया  उलझनों को  

परमपिता परमेश्वर के हाथों में

खुद को भी  समेट  लिया जीवन के प्रपंचों से दूर

  भक्ति का मार्ग चुना है  निर्भय कंटकों से दूर |

आशा  

 

16 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. सुप्रभात
      धन्यवाद आलोक जी टिप्पणी के लिए |

      हटाएं
  2. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शनिवार (15-05-2021 ) को 'मंजिल सभी को है चलने से मिलती' (चर्चा अंक-4068) पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है।

    चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

    यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    जवाब देंहटाएं
  3. सुप्रभात
    मेरी रचना की सूचना के लिए आभार रविन्द्र जी |

    जवाब देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. धन्यवाद आपका बहुत टिप्पणीव के लिए

      हटाएं
  5. धन्यवाद आपका बहुत

    जवाब देंहटाएं
  6. उत्तर
    1. धन्यवाद आपका बहुत टिप्पणीव के लिए

      हटाएं
  7. बहुत सुंदर, अच्छी प्रस्तुति, जय श्री राधे

    जवाब देंहटाएं
  8. धन्यवाद आपका बहुत टिप्पणीव के लिए

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह ! जिसने परम पिता के हाथों खुद को सौंप दिया उसको तो मोक्ष मिलना ही है ! बहुत सुन्दर रचना जीजी !

    जवाब देंहटाएं
  10. सुप्रभात
    धन्यवाद साधना टिप्पणी के लिए |

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: