06 अगस्त, 2016

व्यर्थ नहीं यह जीवन

03 अगस्त, 2016

वे लम्हें



वे लम्हें के लिए चित्र परिणाम
वे लम्हें जो कभी 
साथ गुजारे थे
सिमट कर 
रह गए हैं यादों में
हैं गवाह
 उन जज्बातों  के
जो धूमिल
 तक न हुए हैं
मन मुदित
 होने लगता है
उन लम्हों में
 पहुँच कर
क्या वे लौट कर
 न आएंगे
मुझे सुकून
 पहुंचाने को 
हर याद है 
इतनी गहरी
उससे जुदाई
 मुश्किल है
हैं वे लम्हें 
 वेशकीमती
उनसे दूरी 
नामुमकिन है |
आशा

01 अगस्त, 2016

मुक्तक

वह तेरा ऐसा  दीवाना हुआ
बिन तेरे दिल वीराना हुआ 
वीराने में बहार आए कैसे 
सोचने का एक बहाना हुआ |

चारो ओर छाया अन्धेरा ,उजाले की इक किरण ढूँढते हैं
गद्दारों से घिरे हुए हैं ,ईमान की इक झलक ढूंढते हैं
जो ईमान पर खरी उतारे ,ऐसी इक शख्शियत ढूँढते हैं
जिस दिन उससे रूबरू होंगे ,उस पल की तारीख ढूँढते हैं |
कहाँ नहीं खोजा आपको आखिर आप कहाँ हैं 
क्या लाभ असमय पहुँचाने का ,जताने का कि आप वहां हैं 
अब तक कई लोग पहुंचगे होंगे ,किसा किस को जाने
कोई आए या न आए आपके बिना ,मन को सुकून कहाँ है |
है नटखट नखराली 
चंचल चपल चकोरी 
चाँद सी सूरत सहेजे 
बारम्बार करती बरजोरी |
जाने कितने राज छिपे  हैं इस दिल में 
 होने लगा आग़ाज अब जमाने में 
कैसे दूरी रख पाओगे ए मेरे हमराज 
छोड़ सारे काम काज उलझे रहोगे उनमें |

की ऊँठ की सबारी रेगिस्थान में
दूर तक था जल का अभाव मरुस्थल में
थी सिक्ता कणों की भरमार वहां
दूर दिखाई देती मारीचिका  मरू भूमि में |


आशा




29 जुलाई, 2016

क्या गलत किया है



शर्तों पर अवश्य टिका है
पर मैंने तेरे नाम
पूरा जीवन लिख दिया
आज के युग में
सुरक्षा लगी आवश्यक
तभी शर्तों का सहारा लिया
क्या कुछ गलत किया
भावनाएं थी प्रवल
जब अनुबंध पर
दस्तखत किये थे
फिर भी मस्तिष्क था सजग
जब तेरा साथ किया था
तभी दौनों की
जुगलबंदी चल रही है
है यह आज की मांग
क्या मैंने गलत किया है
विश्वास पर रिश्ते टिके हैं
फिरभी सुरक्षा लगी आवश्यक
समाज गवाह बना है
इस प्यारे से रिश्ते का
मैंने क्या गलत किया है |
आशा

28 जुलाई, 2016

नन्हां मित्र

नन्हा पौधा हाथों में के लिए चित्र परिणाम
- बहुत व्यस्त हूँ
मुझे एक नन्हां मित्र मिला है
छोटे से पौधे के रूप में
उसे ही हाथों में लिए हूँ
सहेज रही हूँ
अभी तो गड्ढा किया है
ताजी मिट्टी डाली है
यही इसका धर होगा
जहां यह अपनी
जड़ें जमाएगा
रोज जल से इसे
सिंचित करूंगी
अपने मन की बातें
इससे ही कहूंगी
जब यह बड़ा होगा
हरा भरा वृक्ष होगा
यहीं आ कर
विश्राम भी करूंगी |
आशा


26 जुलाई, 2016