24 सितंबर, 2010

हूं एक प्रवासी

हूं एक प्रवासी ,
आया हूं बहुत दूर से ,
साथियों को साथ ले ,
भोजन की तलाश में ,
अपना देश छोड़ आया ,
मौसम था विपरीत वहां ,
यहाँ अभी मौसम अच्छा है ,
लगता है अनुकूल हमें ,
भोजन भी मिल ही जाता है ,
कभी कम तो कभी अधिक ,
कम में भी गुजारा हो जाता है ,
होता है शांति का अनुभव ,
खोजते भोजन कभी ,
तो कभी प्रसन्न होते चहकते ,
दिन यूँ ही बीत जाता है ,
होती है थकान इतनी ,
रात्रि कहां बीत जाती है ,
पता ही नहीं चलता ,
विश्रान्ति के बाद ,
भोर होते ही चल देते हैं ,
होता जीवन क्रम पहले सा ,
आज न जाने कैसे मैं छूट गया,
रह गया बहुत पीछे ,
बाकी सब आगे निकल गए ,
अकेले रहना है मुश्किल ,
डर भी बहुत लगता है ,
ढूँढ रहा हूं साथियों को
सब जाने कहाँ चले गए ,
खोज रहा हूं ऐसा साथी,
जिसने देखा हो देश मेरा ,
वह मेरा साथ निभाए ,
जब भी मैं बापिस जाऊं ,
साथ मेरे ही वह जाए ,
जैसे ही ऋतु में परिवर्तन होगा ,
रहना वहां कठिन ना होगा ,
याद आ रही है मुझको ,
अब अपने देश की ,
जहां जन्मा और बड़ा हुआ ,
पला बढा परवान चढ़ा
मन के हर कौने में बसा है ,
अपना देश अपना होता है ,
हो आवश्यकता ,
या भोजन की तलाश ,
चाहे जहां भी जाएँ ,
पर वहीँ लौट कर आते हैं ,
है कारण बहुत छोटा सा ,
पर महत्व बहुत रखता है ,
प्यार और अपनत्व ,
केवल वहीँ मिलता है ,
सब साथी बिछुड गए है ,
पर सब लौट कर जाएंगे ,
फिर वहीँ मिल पाएंगे |
आशा