28 नवंबर, 2010

आखिर कहाँ जायेगा

चेहरे पर नकाब लगाये
या बार-बार चेहरा बदले
है वह क्या ? जान नहीं पाता
पहचान नहीं पाता|
विश्वास टूट जाता है
 चेहरे पर चेहरा देख
हर बार अजनबी अहसास
अपना सा नहीं लगता |
वादा करके मुकर जाना
हर बात को हवा देना
उस पर अडिग न रहना
कभी मेरा हो नहीं सकता|
शब्द जाल बुनने वाला
बिना बात उलझाने वाला
सरल स्वभाव हो नहीं सकता |
गैरों सा व्यवहार करके
भरी महफिल में रुलाने वाला
अवमानना करने वाला
अपना हो नहीं सकता |
दूसरे के ग़म को
हँसी में उड़ाने वाला
सतही व्यवहार वाला
खुद का भी हो नहीं सकता |
कसम खाई हो जिसने
मर मिट जाने की
किसी को न अपनाने की
ना तो खुद का ही हुआ
और ना इस दुनिया में  किसी का |
वह यदि किसी का न हुआ
तो आखिर कहाँ जायेगा
समय की उड़ती चिंगारियों से ,
अपने को कैसे बचा पायेगा |


आशा