22 फ़रवरी, 2011

एक भूल हुई

ना जाने कब उसे
अपनी चाहत समझ बैठा ,
है वह कौन
जान नहीं पाया |
खिलते फूल सी मुस्कान
भीड़ के बीच खोजना चाही
खोजता ही रह गया
नहीं जान पाया है वह कौन |
कई पत्र लिखे
लिख कर फाड़े
कुछ भेजे, कुछ पड़े रहे
उत्तर एक का भी
आज तक नहीं आया |
अब तो अकेलापन
जहरीले कंटक सा चुभता है
वह जाने कहाँ खो गयी
मुझे बेचैन कर गयी |
अपने सामने पा कर उसे
कुछ मन की कहने के लिये
उसकी मौन स्वीकृति के लिये
बेतहाशा तरसा हूँ |
सोचता हूँ कोई उपाय खोजूँ
उस तक पहुँच पाने का
उसे यदि खोज पाऊँ
व्यथा अपने मन की
उसे सुनाऊँ |
बदनाम हुआ जिसके लिए
बस सपनों में ही आती है
कभी हँसाती तो कभी रुलाती है
दिल की बात अनकही रह गयी है
मन में निराशा घर कर गयी है |
कभी कभी ऐसा लगता है
शायद कभी न मिल पायेंगे
अनजाने में एक भूल हुई
खुद पर इतना ऐतबार किया
उसे अपनी चाहत बना बैठा
जब चाहत पूरी न हुई
खुद को गुनाहगार मान बैठा |

आशा