10 अप्रैल, 2011

है ऐसा क्या तुम में


हो मेरे ह्रदय की धडकन
तुम में ही समाहित मेरा मन
तुम्हारी इच्छा थी
मैं कुछ लिखूं
पर सोचता ही रह गया
तुम पर क्या लिखूं |
तुम में छिपी कई कलाएं
मैं गाना तक नहीं जानता
है हम में इतना अंतर
जितना पृथ्वी और अम्बर के अंदर
फिर भी अलग नहीं हम
मिले रहे क्षितिज की तरह
मैं अधिक ही व्यस्त रहा
फिर भी दूरी सह ना सका
कई बार लौट कर आया
जब भी कोई तकरार हुई
क्रोध पर काबू किया
भुला दिया उसे
असहयोग तक दर्ज न किया |
जब भी कभी मनन करता हूँ
सोचता ही रह जाता हूँ
है ऐसा क्या तुममें
मुझे पूरा ही
बदल कर रख दिया |
यह दैहिक मोह नहीं लगता
बैचारिक सामंजस्य भी नहीं ,
कार्य कुशल तो सभी होते हैं
कर्त्तव्य परायण भी ।
पर ना जाने तुम में है क्या ?
लगता जन्म जन्मांतर का साथ
जिसे निभाया बहुत जतन से
अब ना रहे कोई आकांक्षा अधूरी
संतुष्टि हो जीवन में |

आशा