03 जून, 2010

फिर शिकायत क्यूँ

मरूभूमि सा मेरा जीवन ,
मृगतृष्णा बन कर तुम आये ,
जब-जब तुमको पाना चाहा ,
बहुत दूर नजर आये ,
मैंने अपना सब कुछ छोड़ा,
जब से तुमसे नाता जोड़ा,
जो चाहा था बन न सके
तुम्हारे ही हो कर रह गये ,
दुखों को भी झेला हमने ,
सुख से भी ना दूर रहे ,
जैसा तुमने चाहा था ,
वैसे ही बन कर रह गये ,
अपना अस्तित्व मिटा बैठे ,
खुद को ही हम भूल गये ,
फिर शिकायत क्यूँ करते हो ,
मैंने जो चाहा बन न सका ,
आपसी दूरी घटा न सका ,
क्यूँ गिले शिकवे करते रहते हो ,
साथ चलने का वादा क्यूँ नहीं करते ,
साथ रहेंगे क्यूँ नहीं कहते ?


आशा

9 टिप्‍पणियां:

  1. फिर क्यों शिकायत !!!
    सुन्दर अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  2. अपना अस्तित्व मिटा बैठे ,
    खुद को ही हम भूल गए ,
    फिर शिकायत क्यूँ करते हो ,
    शिकायत की आदत है जिसे वे तो करेंगे ही
    सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  3. मैंने जो चाहा बन न सका ,
    आपसी दूरी घटा न सका ,
    क्यूँ गिले शिकवे करते रहते हो ,
    साथ चलने का वादा क्यूँ नहीं करते , sundar bhaav..prem me umadti bhaavnaayein aur virah me jalti panktiyan

    जवाब देंहटाएं
  4. अपनी असफलताओं का ठीकरा दूसरों के सर पर फोडने की इंसानी फितरत बहुत पुरानी है ! जो नहीं कर सके वह औरों की वजह से नहीं कर सके यह सिद्ध करना ही लोगों का स्वभाव होता है ! आपने इन भावनाओं को बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति दी है ! बहुत खूब !

    जवाब देंहटाएं
  5. पहली बार आपके ब्लॉग पर आया!
    बहुत अच्छा लगा!
    आपकी रचना और लेखन बहुत ही परिष्कृत लगे!

    जवाब देंहटाएं
  6. आपने इन भावनाओं को बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति दी है ! बहुत खूब !

    जवाब देंहटाएं
  7. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    जवाब देंहटाएं
  8. आप सब को मेरी तरफ से बहुत बहुत धन्यवाद | मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है \मुझे बहुत अच्छा लगा कि आपने मेरा लेखन
    पसंद किया |इसी प्रकार मेरा हौसला बढाते रहें |आभार
    आशा

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: