07 जून, 2010

संग्रह यादों का


कुछ तो ऐसा है तुममें
तुम्हारी हर बात निराली है
कोई भावना जागृत होती है
एक कविता बन जाती है
लिखते-लिखते कलम न  थकती
हर रचना कुछ कह जाती
मुझको स्पंदित कर जाती 
है गुण तुममें सच्चे मोती सा
निर्मल सुंदर चारु चंद्र सा
एक-एक मोती सी 
तुम्हारी  लिखी हर  कविता
कैसे चुनूँ और पिरोऊँ 
फिर उनसे माला बनाऊँ
 माला में कई होंगे मनके 
 किसी न किसी की कहानी कहेंगे
संग्रह उन सब का करूँगा
और रूप पुस्तक का दूँगा
हर कृति कुछ बात कहेगी
मन को भाव विभोर करेगी
तुम्हारी याद मिटने ना दूँगा
हर किताब सहेज कर रखूँगा |


आशा

5 टिप्‍पणियां:

  1. ये कविता तो बहुत ज्यादा अच्छी है :)

    जवाब देंहटाएं
  2. अति सुन्दर!! भावपूर्ण!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया ! आपकी कविताओं के प्रशंसक कितनी दीवानगी के साथ आपकी कविताओं को प्यार करते हैं यह रचना इसकी मिसाल है ! बहुत खूब !

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: