06 जून, 2010

आँखें तेरे मन का दर्पण

आँखें तेरे मन का दर्पण ,
चेहरा किताब का पन्ना ,
जो चाहे पढ़ सकता है ,
तुझको पहचान सकता है |
आँखें हैं या मधु के प्याले ,
पग-पग पर छलके जाते ,
दो बूँद अगर मैं पी पाता ,
आत्म तृप्ति से भर जाता |
तेरी आँखों का पानी ,
यह सादगी और भोलापन ,
बरबस खींच लाता मुझको ,
काले कजरारे नयनों की भाषा ,
मन की बात बताती मुझको |
उन में क्यूँ न डूब जाऊँ ,
आँखों में पलते सपनों को ,
तुझ में खोजूँ , मैं खो जाऊँ |
जब नयनों से नयन मिलेंगे ,
मन से मन के तार जुड़ेंगे,
अनजाने अब हम न रहेंगे ,
सुख दुःख को मिल कर बाटेंगे ,
साथ साथ चलते जायेंगे |
खुशियों से भरे ये नयना तेरे ,
जीवन में नये रंग भरेंगे ,
हर खुशी तेरे कदमों में होगी ,
हम दूर क्षितिज तक साथ चलेंगे |


आशा

7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर आकांक्षा एवं बहुत प्यारी अभिव्यक्ति ! आपका हर मधुर स्वप्न साकार हो ! आमीन !

    जवाब देंहटाएं
  2. आईये जानें .... मन क्या है!

    आचार्य जी

    जवाब देंहटाएं
  3. bahut khub



    फिर से प्रशंसनीय रचना - बधाई

    जवाब देंहटाएं
  4. कल मंगलवार को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है



    http://charchamanch.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  5. aise aakankshaye har man ki hoti hain..bahut sunder bhavo me dhaala he aapne aakankshao ko. sunder abhivyakti.

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: