05 अगस्त, 2011

प्रकृति से छेड़छाड़


हो रही धरती बंजर
उभरी हैं दरारें वहाँ
वे दरारें नहीं केवल
है सच्चाई कुछ और भी
रो रहा धरती का दिल
फटने लगा आघातों से
वह सह नहीं पाती
भार और अत्याचार
दरारें तोड़ रही मौन उसका
दर्शा रहीं मन की कुंठाएं
क्या अनुत्तरित प्रश्नों का हल
कभी निकल पाएगा
प्रकृति से छेड़छाड़ की
सताई हुई धरा
है अकेली ही नहीं
कई और भी हैं
हर ओर असंतुलन है
जो जब चाहे नजर आता है
झरते बादल आंसुओं से
बूंदों के संग विष उगलते
हुआ प्रदूषित जल नदियों का
गंगा तक न बच पाई इससे
कहीं कहर चक्रवात का
कहीं सुनामी का खतरा
फिर भी होतीं छेड़छाड़
प्रकृति के अनमोल खजाने से
हित अहित वह नहीं जानता
बस दोहन करता जाता
आज की यही खुशी
कल शूल बन कर चुभेगी
पर तब तक
बहुत देर हो चुकी होगी |
आशा

17 टिप्‍पणियां:

  1. झरते बादल आंसुओं से

    बूंदों के संग विष उगलते

    हुआ प्रदूषित जल नदियों का

    गंगा तक न बच पाई इससे |

    kharaa sach yahee hai

    जवाब देंहटाएं
  2. बरबाद करने की होड़ मची है। वंशजो की थाती बेच मन नही भरता फ़िर भी हर दिन एक नया लोश लिये फ़िर लूटने निकल पड़ते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  3. पर्यावरण के संरक्षण के लिये चेताती एक अद्भुत रचना !

    हित अहित वह नहीं जानता

    बस दोहन करता जाता |

    आज की यही खुशी

    कल शूल बन कर चुभेगी

    पर तब तक

    बहुत देर हो चुकी होगी |

    विचारणीय पंक्तियाँ ! बहुत सुन्दर !

    जवाब देंहटाएं
  4. सार्थक और सटीक प्रस्तुति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    जवाब देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  6. aapki chinta paryavaran ke sandarbh men bilkul sahi hai , abhar

    जवाब देंहटाएं
  7. झरते बादल आंसुओं से
    बूंदों के संग विष उगलते
    हुआ प्रदूषित जल नदियों का
    गंगा तक न बच पाई इससे |

    गहन सोच साझा करती सुंदर कविता

    जवाब देंहटाएं
  8. आज की यही खुशी
    कल शूल बन कर चुभेगी
    पर तब तक
    बहुत देर हो चुकी होगी |


    सोदेशात्मक जीवन्त विचारों की बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !

    जवाब देंहटाएं
  9. आज की यही खुशी
    कल शूल बन कर चुभेगी
    पर तब तक
    बहुत देर हो चुकी होगी |

    bahut sarthak rachna

    जवाब देंहटाएं
  10. सही चिंता है आपकी ...अगर अभी भूल न सुधारी तो वक्त के साथ पछतावा होगा !
    शुभकामनायें !

    जवाब देंहटाएं
  11. मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं,आपकी कलम निरंतर सार्थक सृजन में लगी रहे .
    एस .एन. शुक्ल

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: