16 सितंबर, 2011

नफ़रत



कई परतों में दबी आग
अनजाने में चिनगारी बनी
जाने कब शोले भड़के
सब जला कर राख कर गए |
फिर छोटी छोटी बातें
बदल गयी अफवाहों में
जैसे ही विस्तार पाया
वैमनस्य ने सिर उठाया |
दूरियां बढ़ने लगीं
भडकी नफ़रत की ज्वाला
यहाँ वहां इसी अलगाव का
विकृत रूप नज़र आया |
दी थी जिसने हवा
थी ताकत धन की वहाँ
वह पहले भी अप्रभावित था
बाद में बचा रहा |
गाज गिरी आम आदमी पर
वह अपने को न बचा सका
उस आग में झुलस गया
भव सागर ही छोड़ चला |

आशा





16 टिप्‍पणियां:

  1. आज की गंदी राजनीति की बिलकुल सही तस्वीर खींची है आपने रचना में ! दुःख यही है कि जनता भुलावे में आ जाती है और नेताओं की चालें ना समझ कर अपना नुकसान खुद ही कर बैठती है ! एक सार्थक रचना ! बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  2. आज कल के हालात पर सार्थक अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    जवाब देंहटाएं
  3. वैमनस्य ने सिर उठाया |
    दूरियां बढ़ने लगीं
    भडकी नफ़रत की ज्वाला
    यहाँ वहां इसी अलगाव का
    विकृत रूप नज़र आया |

    यह एक कड़वा सच है...
    मन को उद्वेलित करने वाली बेहतरीन रचना....

    जवाब देंहटाएं
  4. sochne ko bibash karti shandar rachna..badhayee aaur sadar pranam ke sath

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत खूब ... आग सब कुछ जला देती है ...

    जवाब देंहटाएं
  6. गहन भावो को समेटती खूबसूरत और संवेदनशील रचना|

    जवाब देंहटाएं
  7. बढ़िया पोस्ट ...सही लिखा है आपने

    जवाब देंहटाएं
  8. बधाई! बहुत प्रभावशाली रचना आज की वीभत्स राजनीति को आइना दिखाती हुई !

    जवाब देंहटाएं
  9. आज के हालात का बहुत सटीक चित्रण...

    जवाब देंहटाएं
  10. http://premchand-sahitya.blogspot.com/

    यदि आप को प्रेमचन्द की कहानियाँ पसन्द हैं तो यह ब्लॉग आप के ही लिये है |

    यदि यह प्रयास अच्छा लगे तो कृपया फालोअर बनकर उत्साहवर्धन करें तथा अपनी बहुमूल्य राय से अवगत करायें |

    जवाब देंहटाएं
  11. वह पहले भी अप्रभावित था
    बाद में भी बचा रहा |

    एक दम सही बात

    जवाब देंहटाएं
  12. गाज गिरी आम आदमी पर
    वह अपने को न बचा सका
    उस आग में झुलस कर
    भव सागर ही छोड़ चला |


    -बहुत बढ़िया....

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: