20 अक्तूबर, 2011

दीपावली


टिमटिमाते तारे गगन में
अंधेरी रात अमावस की
दीपावली आई तम हरने
लाई सौगात खुशियों की |
कहीं जले माटी के दीपक
रौशन कहीं मौम बत्ती
चमकते लट्टू बिजली के
विष्णु प्रिया के इन्तजार में |
बनने लगी मावे की गुजिया
चन्द्रकला और मीठी मठरी
द्वार खुला रखा सबने
स्वागतार्थ लक्ष्मी के |
आतिशबाजी और पटाखे
हर गली मोहल्ले में
नन्ही गुडिया खुश होती
फुलझड़ी की रौशनी में |
समय देख पूजन अर्चन
करते देवी लक्ष्मी का
खील बताशे और मिठाई
होते प्रतीक घुलती मिठास की |
दृश्य होता मनोरम
तम में होते प्रकाश का
होता मिलन दौनों का
रात्री और उजास का |
प्रकाश हर लेता तम
फैलाता सन्देश स्नेह का
चमकता दमकता घर
करता इज़हार खुशियों का |

आशा


21 टिप्‍पणियां:

  1. दिवाली का एहसास कराती सुन्दर रचना| धन्यवाद|

    जवाब देंहटाएं
  2. दीपावली के स्वागत के लिये प्रेरित करती सार्थक रचना ! एक अद्भुत उत्साह, उल्लास एवं उमंग जगा गयी यह रचना ! दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें !

    जवाब देंहटाएं
  3. दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनायें
    --

    जवाब देंहटाएं
  4. सुंदर दीपावली गीत ... !
    शुभकामनायें आपको !

    जवाब देंहटाएं
  5. माहौल बनने लगा दीपावली का।
    शुभकामनाएं..................

    जवाब देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  7. आपकी इस कविता को पढ़कर यहाँ विदेश में बैठकर भी एहसास जाग रहा है की दिवाली आ गई है ... शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  8. सुन्दर प्रस्तुति ..दीपावली की शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    प्रकाश पर्व की अग्रिम शुभकामनाएँ!
    --
    यहाँ पर ब्रॉडबैंड की कोई केबिल खराब हो गई है इसलिए नेट की स्पीड बहत स्लो है।
    बैंगलौर से केबिल लेकर तकनीनिशियन आयेंगे तभी नेट सही चलेगा।
    तब तक जितने ब्लॉग खुलेंगे उन पर तो धीरे-धीरे जाऊँगा ही!

    जवाब देंहटाएं
  10. चमकते लट्टू बिजली के
    विष्णु प्रिया के इन्तजार में |

    बहुत खूब दीदी

    जवाब देंहटाएं
  11. टिमटिमाते तारे गगन में
    अंधेरी रात अमावस की
    दीपावली आई तम हरने
    लाई सौगात खुशियों की | सुन्दर प्रस्तुति ..दीपावली की शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  13. आपको दीपावली सपरिवार अग्रिम शुभकामनाएँ।

    सादर

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत ही सुन्दर उल्लासपूर्ण आशा का संचार
    करती लगी आपकी यह अनुपम प्रस्तुति,आशा जी.

    बहुत बहुत आभार.
    धनतेरस दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.
    'नाम जप' के बारे में अपने अमूल्य विचार
    और अनुभव प्रस्तुत करके अनुग्रहित कीजियेगा.

    जवाब देंहटाएं
  15. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    कल 24/10/2011 को आपकी कोई पोस्ट!
    नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: