20 नवंबर, 2011

कहीं संकेत तो नहीं


मन में दबी आग
जब भी धधकती है
बाहर निकलती है
थर्रा देती सारी कायनात |
मन ही मन जलता आया
सारा अवसाद छिपाया
सारी सीमा पार हों गयी
सहनशक्ति जबाब दे गयी |
विस्फोट हुआ ज्वाला निकली
धुंआ उठा चिंगारी उड़ीं
हाथ किसी ने नहीं बढाया
साथ भी नहीं निभाया |
समझा गया हूँ क्रोधित
इसी से आग उगल रहा
पर कारण कोइ न जान पाया
मन मेरा शांत न कर पाया |
बढ़ने लगी आक्रामकता
तब भयभीत हो राह बदली
बरबादी के कहर से
स्वयम् भी न बच पाया |
बढ़ी विकलता ,आह निकली
बहने लगी अश्रु धारा
पर शांत भाव आते ही
ज़मने लगी , बहना तक भूली |
फिर जीवन सामान्य हो गया
कुछ भी विघटित नहीं हुआ
है यह कैसी विडंबना
सवाल सहनशीलता पर उठा |
बार बार आग उगलना
फिर खुद ही शांत होना
कहीं यह संकेत तो नहीं
सब कुछ समाप्त होने का |
आशा

14 टिप्‍पणियां:

  1. मन की तड़पन ..और हलचल को महसूस किया ...उस प्यार के वेग को ..जो अधूरा रह गया ...मन का तूफ़ान ...मन के भीतर ...उफ़,

    जवाब देंहटाएं
  2. फिर जीवन सामान्य हो गया
    कुछ भी विघटित नहीं हुआ
    है यह कैसी विडंबना
    सवाल सहनशीलता पर उठा |

    हर पल यूँ ही खुद से लड़ना पड़ता है ... विचारणीय रचना

    जवाब देंहटाएं
  3. मनोभावों का सुंदर चित्रण।

    जवाब देंहटाएं
  4. जी नहीं यह संकेत है और अधिक सृजनशील होने का ! ज्वालामुखी का लावा जिस धरा पर जम जाता है वह और अधिक उर्वरा और समृद्ध हो जाती है ! उसी तरह इंसान भी और अधिक संवेदनशील हो जाता है और उसकी रचना में निखार आ जाता है ! सुन्दर रचना !

    जवाब देंहटाएं
  5. बेहतरीन शब्द चयनित कविता ह्रिदय की वेद्ना मुखरित करती पन्क्तियां बधाई आशा जी.

    जवाब देंहटाएं
  6. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की जा रही है!
    आपके ब्लॉग पर अधिक से अधिक पाठक पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    जवाब देंहटाएं
  7. अन्तर्मन विचारों से जब खेलता है तो ऐसी रचनाएँ प्रादुर्भाव पाती हैं।

    जवाब देंहटाएं
  8. अंतर्मन के विचारों को सहज अभिव्यक्ति दी है आपने ...

    जवाब देंहटाएं
  9. सुन्दर बुनावट/सम्प्रेषण...
    वाह! बहुत बढ़िया...
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  10. आशा जी नमस्कार, सुन्दर इन दूरियो का कारण हमारे बीच का अहम भी है जो प्रेम पर भी भारी पड़ता है।

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: