04 दिसंबर, 2011

नया अंदाज

हुए बेजार जिंदगी से इतने
हर शै पर पशेमा हुए
था न कोइ कंधा सर टिकाने को
जी भर के आंसू बहाने को |
हर बार ही धोखा खाया
बगावत ने सर उठाया
हमने भी सभी को बिसराया
हार कर भी जीना आया |
है दूरी अब बेजारी से
नफ़रत है बीते कल से
अब कोइ नहीं चाहिए
अपना हमराज बनाने को |
सूखा दरिया आंसुओं का
भय भी दुबक कर रह गया
है बिंदास जीवन अब
और नया अंदाज जीने का |
आशा


18 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति |

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर शब्दावली, सुन्दर अभिव्यक्ति

    कृपया मेरी नवीन प्रस्तुतियों पर पधारने का निमंत्रण स्वीकार करें.

    जवाब देंहटाएं
  3. जीवन का कटु सत्य है.... जिससे आपने अवगत कराया है....

    जवाब देंहटाएं
  4. सुन्दर प्रस्तुति ||

    बधाई ||

    http://terahsatrah.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  5. सुन्दर प्रस्तुति | मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  6. नए अंदाज के साथ सुन्दर प्रस्तुति..मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार है..धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  7. यही होना चाहिये ! इसी अंदाज़ से ज़िंदगी को जीना चाहिये ! बहुत बढ़िया और धारदार प्रस्तुति ! आनंद आ गया !

    जवाब देंहटाएं
  8. जो बीत गई सो बात गई... सुंदर प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  9. आपलोगों का धन्यवाद इस ब्लॉग पर आने के लिए |
    आशा

    जवाब देंहटाएं
  10. सूखा दरिया आंसुओं का
    भय भी दुबक कर रह गया
    है बिंदास जीवन अब
    और नया अंदाज जीने का |

    .kab tak anshu bahane se achha bindas jina...
    badiya aas jagati rachna

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत खूब अंदाज़ है इस तरह जीने का

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: