09 दिसंबर, 2011

छंद लेखन

छंद लेखन होगा कठिन यह ,आज तक सोचा न था |
होगी कठिन इतनी परिक्षा ,यही तो जाना न था ||

फिर भी प्रयत्न नहीं छोड़ा ,बार बार नया लिखा |
ना पा सकी सफलता तब भी ,ध्यान मात्रा का रखा ||

यह नहीं सोचा हो गेय भी ,भावना में खो गयी |
गणना में मात्रा की उलझी ,सोचती ही रह गयी ||

सफलता से है दूरी अभी ,आज तक समझा यही |
मन मेरा यह नहीं मानता ,चाहता जाना वहीँ ||
आशा



13 टिप्‍पणियां:

  1. खूबसूरत|
    बधाई स्वीकारें ||

    जवाब देंहटाएं
  2. नये लेखन के प्रयास के लिए बधाई

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रयास| बधाई|

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत बातें न जानना ही अच्छा होता है .

    जवाब देंहटाएं
  5. प्रयास जारी रखिये ! एक दिन निर्दोष छंद रचना में भी सफलता ज़रूर मिलेगी ! Keep it up.

    जवाब देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    जवाब देंहटाएं
  7. बेहतरीन प्रयास !
    आभार !
    मेरी नई पोस्ट पे आपका स्वागत है !

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: