23 दिसंबर, 2011

अंदाज अलग जीने का

हूँ स्वप्नों की राज कुमारी

या कल्पना की लाल परी

पंख फैलाए उडाती फिरती

कभी किसी से नहीं डरी |

पास मेरे एक जादू की छड़ी

छू लेता जो भी उसे

प्रस्तर प्रतिमा बन जाता

मुझ में आत्म विशवास जगाता |

हूँ दृढ प्रतिज्ञ कर्तव्यनिष्ठ

हाथ डालती हूँ जहां

कदम चूमती सफलता वहाँ |

स्वतंत्र हो विचरण करती

छली न जाती कभी

बुराइयों से सदा लड़ी

हर मानक पर उतारी खरी |

पर दूर न रह पाई स्वप्नों से

भला लगता उनमें खोने में

यदि कोइ अधूरा रह जाता

समय लगता उसे भूलने में |

दिन हो या रात

यदि हो कल्पना साथ

होता अंदाज अलग जीने का

अपने मनोभाव बुनने का |

आशा

13 टिप्‍पणियां:

  1. utsaah se lavrej kavita..sunder prastuti..sadar badhayee aaur apne blog par amantran ke sath

    जवाब देंहटाएं
  2. कल 24/12/2011को आपकी कोई पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. जी हाँ यदि कल्पना साथ हो तो अंदाज अलग हो जाता है जीने का... कल्पना की उड़ान ऐसी ही होती है... सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    जवाब देंहटाएं
  5. कल्पना इस राजकुमारी का बिंदास अंदाज़ बहुत अच्छा लगा ! जीवन इतना ही खूबसूरत हो जाये तो क्या बात है ! सुन्दर रचना के लिये बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  6. हूँ स्वप्नों की राज कुमारी
    या कल्पना की लाल परी
    पंख फैलाए उडाती फिरती
    कभी किसी से नहीं डरी |

    वाह! बहुत सुन्दर रचना....
    सादर.

    जवाब देंहटाएं
  7. दिन हो या रात

    यदि हो कल्पना साथ

    होता अंदाज अलग जीने का

    अपने मनोभाव बुनने का |


    बेहतरीन


    सादर

    जवाब देंहटाएं
  8. हूँ स्वप्नों की राज कुमारी
    या कल्पना की लाल परी
    पंख फैलाए उडाती फिरती
    कभी किसी से नहीं डरी |

    आत्मविश्वास से भरी रचना...

    खूबसूरत...!

    जवाब देंहटाएं
  9. ख़ूबसूरत प्रस्तुति,सादर.

    मेरे ब्लॉग पर भी पधार कर अनुगृहीत करें.

    जवाब देंहटाएं
  10. जादू की छड़ी ,प्रस्तर प्रतिमा सुन्दर बिम्ब लिए सुन्दर रचना .

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: