01 जून, 2012

यादें भर शेष रहा गईं

 सपनों की चंचलता बहुत कुछ
सागर की उर्मियों सी
भुला न पाई उन्हें
कोशिश भी तो नहीं की |
बार बार उनका आना
हर बार कोई संदेशा लाना
मुझे बहा ले जाता
किसी अनजान दुनिया में |
उसी दुनिया में जीने  की ललक
बढ़ने लगती ले जाती  वहीँ
 अचानक एक ठहराव आया
 मन के गहरे सागर में |
फिर चली सर्द हवा
उर्मियों ने सर उठाया
आगे बढ़ीं टकराईं
पर हो हताश लौट आईं |
यह ठहराव बदल गया
समूंचे जीवन की राह
अब न कोई स्वप्न रहे
ना ही कभी याद आए |
भौतिक जीवन की
 जिजीविषा की
बेरंग होते  जीवन की
 यादें भर शेष  रह गईं |

आशा

18 टिप्‍पणियां:

  1. सच भौतिक जीवन में बस यादें ही शेष रह जाती हैं

    जवाब देंहटाएं
  2. भौतिक जीवन की
    जिजीविषा की
    बेरंग होते जीवन की
    यादें भर शेष रह गईं |बहुत ही गहरे और सुन्दर भावो को रचना में सजाया है आपने.....

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    जवाब देंहटाएं
  4. यादें भर ही शेष रह जाती हैं...
    सुन्दर कविता!

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत खूबसूरत रचना है ! यादें ही जीवन की अनमोल धरोहर होती हैं जो सदा साथ रहती हैं ! बहुत अच्छी रचना ! तराने सुहाने पर आपका पसंदीदा गीत डाला है मैंने ! उसे भी सुन लीजियेगा !

    जवाब देंहटाएं
  6. सुन्दर रचना प्रस्तुति...आभार

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    जवाब देंहटाएं
  8. Jeevan hai hi aisa...n yaadein jaati hain..aur kabhi kabhi aati bhi nahin...bahut sundar prastuti...

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  10. उर्मियों ने सर उठाया
    आगे बढ़ीं टकराईं....
    यह ठहराव बदल गया
    समूंचे जीवन की राह

    सुंदर रचना....
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  11. भौतिक जीवन की
    जिजीविषा की
    बेरंग होते जीवन की
    यादें भर शेष रह गईं |

    ....बहुत गहन और सुन्दर अभिव्यक्ति...

    जवाब देंहटाएं
  12. भौतिक जीवन की
    जिजीविषा की
    बेरंग होते जीवन की
    यादें भर शेष रह गईं |......आशा जी बहुत ही गहन और सुन्दर अभिव्यक्ति...मेरे ब्लांग में आने के लिए आभार....

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: