11 अक्तूबर, 2012

बेचारे बगदी लाल जी


बेचारे बगदी लाल जी ,करन चले व्यापार |
महंगाई की मार का ,सह न पाए वार ||

है लाभ क्या न जानते ,झुझलाते पा हार |
होते विचलित हानि से ,जीवन लगता भार ||

किसी   सलाह से बचते ,मन मे उठता ज्वार |
अनजाने बने रहते ,जब भी  होता वार ||

दखल देते बेहिसाब और बदलते भेष |
अवमानना से अपनी ,उनको  लगती ठेस||

गणित हानि लाभ का ,सब विधि के आधीन |
धनिक बनने की चाह में ,इस पर गौर न कीन्ह ||

खड़ा हुआ सच सामने ,धूमिल कल की याद |
मीठी यादें आज की ,भविश्य की सौगात ||
आशा

13 टिप्‍पणियां:

  1. वाह आदरणीया आशा जी क्या बात है सत्य है, निम्न ज्ञान सदैव परेशानी में डालता है सुन्दर अति सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  2. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह आशा जी .....
    बहुत सुन्दर...
    कुछ अलग हट के.....

    सादर
    अनु

    जवाब देंहटाएं
  4. सचमुच महंगाई की मार का ,कोई भी सह न पाए वार फिर बगदी लाल जी कैसे सह पाते... बढ़िया कविता आशाजी... आभार

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया रचना |

    नई पोस्ट:- ओ कलम !!

    जवाब देंहटाएं
  6. बेचारे बगदी लाल जी को बहुत भुगतना पड़ गया ! क्या करें मँहगाई का वार होता ही इतना करारा है ! दोहों के माध्यम से सुन्दर चित्रण ! बहुत बढ़िया !

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह ... बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: