05 दिसंबर, 2013

विचारों की श्रंखला



हूँ स्वतंत्रता की पक्षधर
पर हाथ बंधे हैं
आजादी का अर्थ  जानती हूँ
पर जीवन की हर सांस
किसी न किसी परिपाटी में
उलझी है और
संस्कारों के बोझ तले
दबी सहमी है |
स्वतंत्रता है अधिकार मेरा
किताबों में पढ़ा है पर
आज तक अनुभव न हुआ
 कर्तव्यों का बोझ लिए
जीवन खडा है |
उदास हूँ
तरस आता है खुद पर 
होता अन्धकार हावी
जाने कब होगा सबेरा |
व्यर्थ की रोकाटोकी
अब रास नहीं आती
अनगिनत वर्जनाएं
व्यथित करती जातीं |
अब कोई बच्ची  नहीं
जो भय मन में पालूँ
कर्तव्य से मुंह मोड़ कर
पलायन करूं  |
चाहती हूँ रखूँ
अस्तित्व अक्षून्य अपना
ना हो बाधित
अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता
अवाध गति से बढ़ती जाए
विचारों की श्रंखला |
आशा

13 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया,बेहतरीन अभिव्यक्ति...!
    ----------------------------------
    Recent post -: वोट से पहले .

    जवाब देंहटाएं
  2. चाहती हूँ रखूँ
    अस्तित्व अक्षून्य अपना
    ना हो बाधित
    अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता
    अवाध गति से बढ़ती जाए
    विचारों की श्रंखला |
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति !
    नई पोस्ट वो दूल्हा....
    latest post कालाबाश फल

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही सार्थक, सशक्त एवँ सुंदर रचना ! आत्म विश्वास और जागरूक होने की ज़रूरत है ऐसा कोई काम नहीं जो आज की नारी ना कर सके ! बहुत बढ़िया !

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शुक्रवार (06-12-2013) को "विचारों की श्रंखला" (चर्चा मंचःअंक-1453)
    पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  5. कल 07/12/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: