24 अप्रैल, 2014

प्यासी धरती प्यासा चातक


Photo


तरसती है 
तपती दरकती 
प्यासी धरती |



प्यासी धरनी 
देखती आकाश में 
काले बादल |



कब हो वर्षा 

है इन्तजार उसे 

वर्षा ऋतु का |

                       

प्यासा चातक 
स्वाति नक्षत्र का ही
जल चाहता




चातक मन
यदि ना पाए उसे

प्यासा रहता |









12 टिप्‍पणियां:

  1. मनभावन चित्रों के साथ बहुत सुंदर एवं प्रभावी हाईकू !

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (25.04.2014) को "चल रास्ते बदल लें " (चर्चा अंक-1593)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    जवाब देंहटाएं
  3. सुंदर चित्रों सहित सुंदर भाव

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: