18 मई, 2014

माँ (हाईकू )

११.५.२०१४
मेरी जननी 
प्रिय जान से मुझे
जैसे अवनी |

प्रथम गुरू
हो सुबह मेरी माँ
तुझसे शुरू |

माँ का आँचल
भरा है ममता से
रिक्त न होता |
आशा

20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (19-05-2014) को "मिलेगा सम्मान देख लेना" (चर्चा मंच-1617) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर !दूसरा हाइकू दूसरी पंक्ति एकबार पड़ लें |
    latest post: रिस्ते !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मैंने अपनी भूल सुधार ली है |टाइप करते समय यह त्रुटि रहा गयी |
      टिप्पणी हेतु धन्यवाद सर |

      हटाएं
  3. अति सुन्दर ,बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  4. सुन्दर ... माँ का स्पर्श लिए सभी हाइकू ...

    जवाब देंहटाएं
  5. बेहद उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@आप की जब थी जरुरत आपने धोखा दिया (नई ऑडियो रिकार्डिंग)

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर हाईकू ! बढ़िया !

    जवाब देंहटाएं
  7. प्यारे हाइकू !! मंगलकामनाएं आपको !

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: