15 मई, 2014

दो तोते


दो तोते बैठे 
 वृक्ष के तने पर 
आपस में बतियाते 
वर्तमान पर चर्चा करते |
उदासी का चोला ओढ़े 
यादे अपनी ताजा करते 
पहले कितनी हरियाली थी 
हमजोलियों की टोलियाँ थीं |
बड़े पेड़ कटते गए 
मित्र तितरबितर हो गए 
आधुनिकता की बली चढ़ गए 
मानव ही बैरी हो गया 
सृष्टि के संतुलन का |
हरियाली का नाश किया 
सीमेंट लोहे  का जंगल उगाया 
यही कारण हो गया 
हम सब की बदहाली का  |
रैन बसेरा नष्ट हो गया 
आज है यह हाल
 कल न जाने क्या होगा 
अभी बैठे हैं यहाँ 
कल न जाने कहाँ होंगे |
आशा 


13 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (16.05.2014) को "मित्र वही जो बने सहायक " (चर्चा अंक-1614)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    जवाब देंहटाएं
  2. सार्थक सदेश देती बेहतरीन प्रस्तुति ! पंछियो की इस व्यथा को हम मानव कभी समझ नहीं पाते ! एक सम्वेदनशील रचना !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अरे भाई हिन्दी में टिप्पणी कैसे |
      टिप्पणी हेतु धन्यवाद |

      हटाएं
  3. अपने स्वार्थ में अंधा हो गया है इंसान !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको टिप्पणी हेतु बहुत बहुत धन्यवाद |
      आशा

      हटाएं
  4. जब तोते इंसानों की करनी को भोगने पर मजबूर होते हैं तब उनका रोना एक संवेदनशील इंसान ही सुन सकता है
    बहुत बढ़िया सन्देश

    जवाब देंहटाएं
  5. सार्थक संदेश देती कविता।

    जवाब देंहटाएं
  6. प्रकृति के संतुलन को कायम रख कर ही हम अपने आस्तित्व को कायम रख सकेंगे.

    जवाब देंहटाएं
  7. टिप्पणी हेतु धन्यवाद |

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: