07 मई, 2014

मकसद कहाँ ले जाएगा




आज  अपनी ८५०वी रचना प्रस्तुत कर रही हूँ |आशा है अच्छी लगेगी |


बेकल उदास बेचैन राही
चला जा रहा अनजान पथ पर
नहीं जानता कहाँ जाएगा
मकसद  कहाँ ले जाएगा |
चलते चलते शाम हो गयी
थकान ने अब सर उठाया
सड़क किनारे चादर बिछा कर
रात बिताने का मन बनाया |
अंधेरी रात के साए में
नींद से आँख मिचोनी खेलते
करवटें बदलते बदलते
निशा कहीं विलुप्त हो गई  |
समय चक्र बढ़ता गया
सुनहरी धूप लिए साथ
 आदित्य का सामना  हुआ
सूर्योदय का भास् हुआ |
पाकर अपने समक्ष उसे
अचरज में डूबा डूबा सा
अधखुले नयनों से उसे
 देखता ही रह गया |
खोजने जिसे चला था
जब पाया उसे बाहों में
बेकली कहीं खो गयी
अपूर्व शान्ति चेहरे पर आई
मकसद पूरा हो गया |
आशा

19 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 8-5-14 को चर्चा मंच पर दिया गया है
    आभार

    जवाब देंहटाएं
  2. अच्छा सा समाँ बाँधती सुंदर प्रस्तुति ! बढ़िया रचना !

    जवाब देंहटाएं
  3. सुन्दर रचना।
    850वीं पोस्ट की बधायी हो।
    --
    चर्चा मंच पर सही कर दिया है।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति, 850वीं पोस्ट की बधाई हो।

    जवाब देंहटाएं
  5. 850 वीं रचना बहुत अच्छी लगी आंटी।
    आपका लेखन ऐसे ही चलता रहे।

    सादर

    जवाब देंहटाएं
  6. कल 09/05/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    जवाब देंहटाएं
  7. टिप्पणी हेतु धन्यवाद कौशल जी |

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: