Akanksha -asha blog spot.com

Akanksha -asha blog spot.com

26 दिसंबर, 2015

लम्बी सड़क सा जीवन



प्रातः काल सुनहरी धूप
लम्बी सड़क दूर तक 
दे रही कुछ सीख 
तनिक सोच कर देखो |
आच्छादित वह   दीखती
हरेभरे कतारबद्ध वृक्षों से
बनती मिटती छयाओं से
उनके अद्भुद आकारों से |
बाल सूर्य की किरणे अनूप
छनछन कर आती धूप
वृक्षों की टहनियों को छू कर
करती आल्हादित तन मन |
निमंत्रित करतीं वहां आने को
मन बावरे को सवारने  को 
एक खिचाव सा होता 
अजीब लगाव सा होता |
फिर से पहुँच जाती
 कल्पना जगत में 
खो जाती सुरम्य वादी की
 उन रंगीनियों में |
कभी लम्बी कभी छोटी
 छाया वृक्षों की  
देती संकेत
 विविधता पूर्ण  जीवन की |
कहीं ऊंची कहीं नीची सड़क
 दिखाती जिन्दगी में
आते उतार चढ़ावों   को  

जीवन के संघर्षों को  |
प्रकृति के कण कण से यहाँ
मिलती रहती   शिक्षा हर पल
इस क्षण को जी भर कर जी लो
कल की किसको खबर
आशा



24 दिसंबर, 2015

क्यूं हो उदास

सांता क्यूं हो उदास आज 
कुछ थके थके से हो 
है यह प्रभाव मौसम का 
या बढ़ती हुई उम्र का
अरे तुम्हारा थैला भी 
पहले से छोटा है 
मंहगाई के आलम  में
 क्या उपहारों का टोटा है
मनोभाव भी यहाँ 
लोगों के बदलने लगे हैं 
प्रेम प्यार दुलार सभी
धन से तुलने लगे हैं
मंहगाई का है यह प्रभाव 
या हुआ आस्था का अभाव 
न जाने कितने सवाल 
मन में उठने लगे हैं
कहाँ गया वह प्रेमभाव 
क्यूं बढ़ने लगा है अलगाव 
भाई भाई से दूर हो रहे 
अपने आप में सिमटने लगे 
क्या तुम पर भी हुआ है वार 
आज पनपते अलगाव का 
या है केवल मन का भ्रम 
या है मंहगाई का प्रभाव 
पर मन बार बार कहता है 
हैप्पी क्रिसमस मेरी क्रिसमस
आज के इस दौर में
खुशियाँ बांटे मनाएं क्रिसमस
इस कठिनाई के दौर में
तुम आये यही बहुत है 
प्यारा सा तोहफा लाए 
मेरे लिए यही अमूल्य  है |
आशा

23 दिसंबर, 2015

मन्त्र कितना सार्थक

अकेलापन के लिए चित्र परिणाम
भीड़ तंत्र ने मन्त्र दिया
खुद को अकेला कर लिया
कीचड़ में खिला कमल सा
यही उसने नुस्का दिया |


भीड़ में खोना नहीं है
तुम्हें अकेले ही जाना है
कोई साथ नहीं देता
यही किस्सा पुराना है |

समय व्यर्थ गवाया पहले
यहाँ वहां जाने आने में
पर प्यार कहीं ना पाया
जो पाया तुम्हारे  सान्निध्य में  |

तुम्हारे कदमों की आहट
जब भी  होती है
मैं जान जाती हूँ
तुम्हें पहचान जाती हूँ |

आती बयार की महक से
होता  अहसास तुम्हारा
गहरी उदासी कहीं
गुम हो ही जाती है |

मन्त्र  अकेले रहने का
अब डगमगाने लगा है
मन का निर्णय है
तुम्हारे साथ चलूँ |

यही बेचैनी मुझे
कमजोर कर रही है
भीड़ में अकेले रहना
सरल नहीं है |

तुम  मेरा जीवन हो
तुम्ही हो सहारा
हर सांस में तुम्ही तुम  हो
यह अब मैंने जाना |

इस भीड़ तंत्र से बच कर
मेरे पास आना
दिल में जगह रखना
 बहाना न बनाना |

आशा



18 दिसंबर, 2015

मूल मन्त्र

फूल पर बैठा भ्रमर के लिए चित्र परिणाम

मन रे  तू है कितना भोला 
खुद में ही खोया रहता 
जग  में क्या कुछ हो रहा
उससे  कोई ना नाता रखता 
भ्रमर पुष्प पर मंडराता
गीत प्रेम के गाता
हर बार नया पुष्प होता 
दुनिया की रीत निभाता
तू भी गुनगुनाता है
उन गीतों को दोहराता है
खिले हुए पुष्पों से
क्या  कभी रहा तेरा नाता ?
अपना सुख दुःख
तूने किस किस से बांटा ?
यही कला ना सीखी 
तभी रहा सदा ही घाटा
जब किसी से सांझा करेगा
विचारों का मंथन करेगा
बोझ तेरा हल्का होगा
घुटन का अनुभव न होगा
अंतर्मुखी हो कर जीना भी
क्या कोई  जीना है
रहो बिंदास प्रसन्न वदन
है  मूल मन्त्र जीवंत जीवन का |

16 दिसंबर, 2015

त्रुटि सुधार कितना आवश्यक



मां ने देखी थी दुनिया
जानती थी है वहां क्या
तभी रोकाटोकी करती थी
पर बेटी थी अनजान|

उसे बहुत सदमा लगा
स्वप्न कहीं गुम हो गया
मुड़ कर पीछे ना देखा
आगे बढ़ने की चाहथी |


गलती उसकी थी इतनी सी
मां का कहना न मान  सकी
तभी तो दलदल में फंसी
बरबादी से बच न सकी|

त्रुटि वही जिसका अहसास हो
जिसके लिए पश्च्याताप हो
अनजाने में हुई गलती  त्रुटि नहीं 
सुधर जाती है यदि स्वीकार्य हो|

यदि मां का कहा मन लेती
 बातों की  अनसुनी न करती
यह हाल  उसका न होता 
दलदल से बच  निकलती |

एक बड़ी सीख मिली 
जिसने की अवहेलना
बड़ों की वर्जनाओं  की 
 उसे सदा ही चोट लगी |

वही जिन्दगी में असफल रहा
उससे न्याय न कर पाया
आगे बढ़ना तो दूर रहा
दलदल में फंसता गया|

बेटा हो या बेटी हो
त्रुटि सुधार है  आवश्यक 
जिसने अनुभवों का लाभ उठाया
वही सहज भाव से  रह पाया |

आशा