25 नवंबर, 2019

दोराहा


 जिन्दगी में उलेझनें अनेक  
कैसे उनसे छुटकारा पाऊँ
दोराहे पर खड़ा हूँ
किस राह को अपनाऊँ |
न जाने क्यूं सोच में पड़ा हूँ
कहीं गलत राह पकड़ कर
दलदल में न फँस जाऊं
उस में ही धसत़ा जाऊं |
एक कदम गलत उठाया यदि
बहुत अनर्थ हो जाएगा
जो कुछ भी अर्जित किया
सभी व्यर्थ हो जाएगा |
सारी महनत व्यर्थ  होगी
कुछ भी हाथ न आएगा
जितने भी यत्न किये अब तक
मिट्टी मैं मिल जाएंगे |
पर दुविधा में हूँ
 इधर जाऊं या उधर जाऊं
कोई भी पास नहीं है
जो मार्ग प्रशस्त करे |
जिधर देखो उधर ही 
कोई हमदम नहीं मिला 
उलझानें कैसे सुलझाऊं  
उन से छुटकारा पाऊँ |
आशा 

8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज सोमवार 25 नवम्बर 2019 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुप्रभात
      मेरी रचना की सूचना हेतु आभार यशोदा जी |

      हटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (26-11-2019) को    "बिकते आज उसूल"   (चर्चा अंक 3531)   पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

    जवाब देंहटाएं
  3. सुप्रभात
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार सर |

    जवाब देंहटाएं
  4. सुप्रभात
    धन्यवाद नीलांश टिप्पणी के लिए |

    जवाब देंहटाएं
  5. असमंजस और दुविधा के पल में अपने मन को एकाग्र करेंगे तो रास्ते खुद ब खुद खुलते चले जायेंगे ! आपका अपना मन ही आपको राह दिखाएगा ! सार्थक रचना !

    जवाब देंहटाएं
  6. धन्यवाद साधना टिप्पणी के लिए |

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: