17 जुलाई, 2020

वर्षा के रंग (हाईकू )

१-वर्षा जल की
झड़ी लगी भादों की
तन भिगोती
२-कितने मीठे
कोयल के स्वर हैं
मीठे आम से
३- दादुर बोले
तलैया के समीप
करते आकृष्ट
४-नाचता मोर
छम छम करके
प्रिया के लिए
५- पपीहा बोले
कानों में रस घोले
अनमोल है
६-सूखा सावन 
वर्षा को तरसा 
मन हर्षाया |

                                                                             आशा

9 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. सुप्रभात
      टिप्पणी के लिए धन्यवाद शास्त्री जी |

      हटाएं
  2. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शनिवार (१८-०७-२०२०) को 'साधारण जीवन अपनाना' (चर्चा अंक-३७६६) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
  3. इस बेहतरीन लिखावट के लिए हृदय से आभार Appsguruji(सीखे हिंदी में)

    जवाब देंहटाएं
  4. अत्यंत सुन्दर हाइकू ! तस्वीर सी खिंच गयी आँखों के समक्ष !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुप्रभात
      टिप्पणी के लिए धन्यवाद साधना |

      हटाएं

Your reply here: