30 जनवरी, 2021


                                                                    चाँद सा गोल चेहरा

रोटी भी उसके जैसी

पर कवि की कल्पना

अब नहीं पहुँचती

उसके चहरे की

और चाँद की
तुलना के लिए |

चाँद का असली रूप देख

कल्पना का घोड़ा

अब नहीं दौड़ता सरपट

उसकी ओर

क्यूँ कि वह जैसा दीखता है

वैसा है है नहीं

मन भय्बीत हुआ है

कहीं वह भड़क तो न जाएगी

उसकी तुलना चाँद से करने पर||

1
                                                                               आशा 

Comments


6 टिप्‍पणियां:

Your reply here: