28 फ़रवरी, 2021

राह भटका एक पक्षी



हूँ एक प्रवासी पक्षी  

समूह से बिछुड़ा हुआ

दूर देश से आया  हूँ

पर्यटन के लिए |

बदले मौसम के  कारण

 राह भटका  हूँ

समूह से बिछड़ गया  हूँ

पर अब तक नहीं हारा हूँ |

 नसीहत ली है मैंने जरूर

जब कहीं बाहर जाना हो

 अपने समूह का साथ

कभी न छोड़ना  चाहिए  |

चाहे मन न मिले सब से

सामंजस्य आपस में करना सीखो

नहीं तो राह भटक जाओगे

 जिद्द से परेशानी में उलझ जाओगे |

नया कोई न आएगा

तुम्हे राह दिखाने

यह सभी समझ जाएंगे

क्यूँ तुम सब से  बिछड़े हो |

आशा

 

16 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. सुप्रभात
      धन्यवाद संगीता जी टिप्पणी के लिए |

      हटाएं
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 01 मार्च 2021 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुप्रभात
      आभार यशोदा जी मेरी रचना की सूचना के लिए |

      हटाएं
  3. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार ( 01 -03 -2021 ) को 'मौसम ने ली है अँगड़ाई' (चर्चा अंक-3992) पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    जवाब देंहटाएं
  4. आभार सहित धन्यवाद रवीन्द्र जी मेरी रचना की सूचना के लिए |

    जवाब देंहटाएं
  5. उचित नसीहत देती सार्थक रचना ! बहुत बढ़िया

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: