07 जून, 2021

है मेरी उलझन

 

तुम्हारा प्यार

 दुलार  कमतर

किसी से  हो

मैं सह नहीं पाती  

तुमसे आगे

निकल जाए कोई

 कहर ढाए

मुझे   स्वीकार नहीं

है मेरा प्यार

बहुत अनमोल

किसी से बाटा  जाए

सहन नहीं

हूँ बहुत कंजूस

तुम्हें भान है

है मेरी उलझन 

                          तुम जान लो 

                         मुझे पहचान लो  |

                             आशा   






8 टिप्‍पणियां:

Your reply here: