04 जुलाई, 2022

सायली छंद

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                               हम दौनों 

            नहीं दूर कभी 

       सदा 




पास ही रहे 

        हम दोनो 

पास पास रहे 

कभी न रहे दूर 

 क्या  यही  नहीं हैं  कमी 

             हैं  दोषी हम दौनों  

                सोचता रहा मैं 

                 मन में    |

२-   तुम से 

कब कहा  मैंने  

मैं रहा  पास तुम्हारे 

झूठे आरोप  लगाए  हैं तुमने 

यह   कैसा न्याय  तुम्हारा 

कहाँ  गलती रही 

 दौनों   की  |

३-एक छत 

के नीचे रहना 

सरल नहीं लगता है 

विचार नहीं मिलते जब भी 

होता तकरार का निवास 

कलह प्रवेश करती 

जीवन बेरंग 

होता |

४- क्या  यही 

है  मेरी  कहानी 

जीवन थमा नहीं है 

उसे  जिया भी नहीं है 

किससे शिकायत करूं 

इसका फलसफा 

है यही |

५-    तुम समझो 

      या न समझो 

 मेरा कर्तव्य पूर्ण हो 

मंसूबे  पूरे करने तो दो 

यही है ख्याल मेरा 

उससे दूरी कैसी 

समझने दो 

मुझे |

६-तुम जानो 

  या नहीं मानों 

हो तुम सुन्दर सी 

है नाजुक नर्म स्वभाव तुम्हारा 


 रहीं  चंचल चपल बिंदास 

हो   मोहिनी सी 

ख्याल मेरा 

ऐसा 


 


9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना  ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 05 जुलाई 2022 को साझा की गयी है....
    पाँच लिंकों का आनन्द पर
    आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. बेहतरीन रचना

    जवाब देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रयास ! एक बार स्वयं इनका पुनर्वाचन करके देखें !

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: