22 सितंबर, 2022

ना हो अधीर इतना

 


रख धीरज ना हो अधीर इतना

 इतनी भी जल्दी क्या है

अंत समय आते ही यह नश्वर शरीर

 पञ्च तत्व में मिल जाने के लिए 

धरा पर धरा ही रह जाएगा |

आत्मा साथ छोड़ शरीर का

 कहीं विलीन हो जाएगी

नया घर तलाशने के लिए  

चल देगी दूसरे घर की तलाश में

या मुक्ति को प्राप्त हो जाएगी

जैसे भी कर्म होंगे उसके

वैसा ही फल मिलेगा उसको |

आशा सक्सेना

3 टिप्‍पणियां:

Your reply here: