19 जुलाई, 2011

है मौन का अर्थ क्या




तुम मौन हो ,
निगाहें झुकी हैं
थरथराते अधर
कुछ कहना चाहते हैं |
प्रयत्न इतना किस लिए
मैं गैर तो नहीं
सुख दुःख का साथी हूँ
हम सफर हूँ |
दो मीठे बोल यदि ना बोले
सीपी से सम्पुट ना खोले
तब तो ये अमूल्य पल
यूं ही बीत जाएंगे |
मैं समझ नहीं पाता
मौन की भाषा
कुछ सोच रहा हूँ
चूडियों की खनक सुन |
है शायद यह अंदाज
प्यार जताने का
फिर भी दुविधा में हूँ
है मौन का अर्थ क्या |
आशा

17 टिप्‍पणियां:

  1. खूब कहा , अभिव्यक्तिओं का गहन चित्रण बधाई

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर शब्दों में भावों को अभिव्यक्त किया..आभार...

    जवाब देंहटाएं
  3. सुन्दर रचना!
    मौन का अर्थ सहमति ही होता है!

    जवाब देंहटाएं
  4. इस मौन का अर्थ समझने में सदियाँ बीत जाती हैं और पुरुष उसे समझ नहीं पाता और अर्थ के अनर्थ हो जाते हैं ! सुन्दर अभिव्यक्ति !

    जवाब देंहटाएं
  5. दीदी आप की कविताओं में सहजता की प्रधानता होते हुए भी गहरी संवेदनाएँ अक्सर पढ़ने में आ रही हैं|

    अपनी कविताओं को पढ़वाने का यह क्रम जारी रखिएगा

    जवाब देंहटाएं
  6. आदरणीय आशा माँ
    नमस्कार !
    .........गहन चित्रण बधाई

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह....बहुत प्यारी सी है ये मौन की भाषा

    जवाब देंहटाएं
  8. आदरणीया आशा जी हार्दिक अभिवादन सुन्दर रचना मौन बहुत कुछ कह जाता है मौन रह के भी ...निम्न पंक्ति गजब की


    हम सफर हूँ |

    दो मीठे बोल यदि ना बोले

    सीपी से सम्पुट ना खोले

    तब तो ये अमूल्य पल

    यूं ही बीत जाएंगे

    धन्यवाद -शुभ कामनाएं
    शुक्ल भ्रमर ५
    भ्रमर का दर्द और दर्पण

    जवाब देंहटाएं
  9. मौन भी कभी- कभी बहुत खुच कह जाता है... बहुत ही सार्थक अभिवयक्ति...

    जवाब देंहटाएं

Your reply here: